अंबानी फाउंडेशन ने झारखंड के पदक विजेताओं को सम्मानित किया

पुरस्कार राशि मिली

रांची,27फरवरी।झारखंड के राज्यसभा सांसद परिमल नथवाणी के प्रयास से 34वें राष्ट्रीय खेल में पदक हासिल करने वाले राज्य के खिलाड़ियों सम्मानित किया और उन्हें धीरु भाई अंबानी फाउंडेशन की तरफ से प्रशस्ति पत्र और प्रोत्साहन सह पुरस्कार राशि के रुप में चेक प्रदान किया गया।
राज्यसभा सदस्य नथवाणी ने राष्ट्रीय खेलों के समापन के तुरंत बाद सरकार और खेल संगठनों से एक कदम आगे बढ़ते हुए राज्य के 96 पदक विजेताओं को स्थानीय कैपिटल हिल होटल में सम्मानित कर इस राज्य में खेलों को तवज्जो देने की एक अभूतपूर्व पहल की है। अत्यंत कम समय में सभी पदक विजेताओं को एक मंच पर लाने का काम परिमल नथवाणी ने किया। उल्लेखनीय है कि रिलायंस ग्रुप के प्रणेता और संस्थापक स्व.धीरुभाई अम्बानी ने अब तक राष्ट्र के विकास के साथ-साथ खेलों के विकास के लिए कई कार्य अपने जीवन में किए गए। जब खेल के आयोजकों ने परिमल नथवाणी से सहयोग कर झारखंड के खिलाड़ियों को सम्मानित करने की बात कही, तोवह तुरंत इसके लिए तैयार हो गए और आयोजकों से संपर्क कर समापन संपर्क कर समापन समारोह के दूसरे ही दिन खिलाड़ियों को सम्मानित कर दिया। हालांकि सूबे के मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा कल समापन समारोह के दिन खिलाड़ियों के लिए अनेक सुविधाएं देने के साथ-साथ पदक विजेताओं के लिए तीन लाख रुपए लेकर सात लाख रुपए देने की घोषणा कर दी,जो भविष्य में इस राज्य में खेलों के विकास के लिए एक नई स्फूर्ति पैदा करेगी। आज कैपिटोल हिल के बड़े सभागार में विशिष्ट अतिथियों द्वारा, जिनमें झारखंड विधानसभा के अध्यक्ष सी.पी. सिंह, झारखंड ओलंपिक संघ के अध्यक्ष आर.के. आनंद, रिलायंस गु्रप के झारखंड-बिहार के अध्यक्ष प्रभात सिन्हा, रांची की लोकप्रिय मेयर रमा खलखो एवं झारखंड ओलंपिक संघ के कोषाध्यक्ष मधुकांत पाठक के अलावा रांची की बेटी एवं तीरंदाज दीपिका के हाथों से पदक विजेताओं को चेक प्रदान किए गए,जो सचमुच में एक बहुत ही अहलादित करने वाला क्षण था। चेक प्राप्त करने वाले पदक विजेताओं के चेहरे पर खुशी साफ तौर पर देखी जा सकती थी। निश्चित रुप से परिमल नथवाणी की यह पहल झारखंड में खेलों के विकास को एक नई गति देगी।
इस अवसर पर झारखंड विधानसभा अध्यक्ष सीपी सिंह ने अभी भाषण का वक्त नहीं है, अब केरल में होने राष्ट्रीय खेल के लिए तैयारी में जुट जाने का समय है। उन्होंने कहा कि जब कामयाबी मिलती है, तो प्रशंसा और सम्मान मिलना चाहिए, लेकिन सम्मान में ही ज्यादा समय व्यर्थ नहीं करते हुए तैयारी पर विशेष ध्यान देने की जरुरत है। उन्होंने कहा कि परिमल नथवाणी ने इन खिलाड़ियों को सम्मानित करने की पहल की है। उससे खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ेगा और भविष्य में यहां के खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय खेल में सभी का सहयोग मिला, इसी कारण सफल आयोजन हो सका। उन्होंने विशेष तौर पर नथवाणी की चर्चा करते हुए कहा कि जब राज्यसभा का चुनाव लड़ने नथवाणी आए,तो सभी लोगों के मन में यह आशंका थी किवे चुनाव जीत कर जाने के बाद वापस नहीं आएंगे, लेकिन ठीक इसके विपरीत हुआ। आज नथवाणी जी निरंतर झारखंड के बारे में सोचते है और काम करते है।
नथवाणी ने खिलाड़ियों पदक विजेताओं और अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि झारखंड के बारे में अक्सर कहा जाता था कि यहां कोई विकास नहीं हो सकता। लेकिन यहां की सरकार विशेषकर राज्य के मुखिया एवं आर.के.आनंद ने इतने जबर्दस्त प्रयास किए, कि यहां वह कुछ हो गया, जो काफी मुश्किल था, यानि राष्ट्रीय खेलों का भव्य आयोजन। उन्होंने कहा कि आज जिन्हें सम्मान मिला है, वह युवा शक्ति का सममान है। उन्होंने उम्मीद जतायी कि झारखंड के खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर झारखंड की गरिमा और प्रतिष्ठा को बढ़ाएंगे और खेलों की दुनिया में छा जाएंगे। सचमुच में राष्ट्रीय खेलों का आयोजन यह संकेत देता है कि झारखंड ने कमाल कर दिखाया है और खेल गांव आज खेल गांव नहीं, बल्कि यह रांची का नया मॉडल है।
रांची नगर-निगम की मेयर रमा खलखो ने कहा कि राज्य में खिलाड़ियों का जिस तरह से उत्साह बढ़ाना था, दुर्भाग्य से अब तक वैसा नहीं हो पाया है। उन्होंने बताया कि साइक्लिंग में जब झारखंड को कांस्य पदक मिला, तब खिलाड़ियों की ओर से उन्हें बताया गया कि उन सभी ने जमशेदपुर की सड़कों पर अभ्यास कर यह पदक जीता। लेकिन अब आधारभूत संरचना तैयार हो चुकी है और राज्य सरकार ने भी यहां खेल विश्वविद्य्नालय बनाने का निर्णय लिया है, इससे राज्य के खिलाड़ियों को प्रोत्साहन मिलेगा। रमा खलखो ने कहा कि आज जिस तरह से क्रिकेट का क्रेज बढ़ा है,उसी तरह से हॉकी, फुटबॉल समेत अन्य खेलों के प्रति भी लोगों की रुचि बढ़ेगी। उन्होंने उम्मीद जतायी कि केरल में होने वाले राष्ट्रीय खेलों में झारखंड के खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन कर सकेंगे।
इस मौके पर झारखंड ओलंपिक संघ के अध्यक्ष आर.के.आनंद ने कहा कि नथवाणी ने अच्छी पहल की है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2002 में राज्यसभा सदस्य चुने गए,तो उन्हें बताया कि यहां के खिलाड़ी रात के अंधेरे में तीरंदाज सांप की आंखों पर निशाना साधते है। उन्होंने कहा कि भविष्य में खिलाड़ियों को प्रोत्साहन मिले, इसके लिए वे राज्य सरकार की सहायता मिलेगी ही, अन्य औद्य्नोगिक प्रतिष्ठानों की ओर से भी सहायता मिलेगी।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *