अर्थशास्री ज्यां द्रेज से पुलिस ने मांगी रिश्वत

डीजी ने मामले के जांच के आदेश दिये, दो पुलिसकर्मी निलंबित
रांची,17दिसंबर। प्रसिद्ध अर्थशास्री और कई यूनिवर्सिटी के विजिटिंग प्रोफेसर ज्यां द्रेज ने रांची के उपायुक्त मनोज कुमार के समक्ष शिकायत दर्ज करायी है कि लालपुर थाना पुलिस की ओर से उनसे रिश्वत की मांग की गयी।
ज्यां द्रेज ने उपायुक्त को लिखे पत्र में बताया िक वे 13 दिसंबर को हेहल में आयोजित होने वाली एक बैठक में हिस्सा लेने के लिए इंस्टिट्यूट फॉन ह्यूमन डेवलपमेंट से मोटरबाईक (नंबर जेएस018-9315) लिया था, शाम 8 बजे के आसपस वे मोटरबाइक को रांची विश्वविद्य्नालय के स्नातकोत्तर विभाग के पार्किंग वाली जगह पर पार्क और लॉक किया,जहां उन्हें कुछ काम था,एक घंटे बाद जब वे बाहर आये, तो मोटर बाईक वहां नहीं थी। इस संबंध में नजदीक के पुलिस स्टेशन गोंदा थाना में एफआईआर दर्ज कराये गये, तो वहां ड्यूटी पर तैनात अधिकारी ने एफआईआर दर्ज करने से मना कर दिया और उन्हें बरियातु पुलिस स्टेशन जाने को कहा। अगले दिन वे एक गवाह के साथ फिर गोंदा थाना पहुंचे,तो इस बार उन्हें लालपुर स्टेशन जाने को कहा। लालपुर पुलिस स्टेशन में अधिकारियों ने मदद नहीं की, उन्हें शायद ऐसा लग रहा था कि बुरा बर्ताव करना उनके कार्य का हिस्सा है। ज्यां द्रेज ने बताया है कि लालपुर थाना के सब इंस्पेक्टर बलवीर सिंह लगातार उनपर चिल्लाते रहे और बेतुका सवाल पूछते रहे, फिर उन्होंने वाया कि मोटरसाईकिल वहीं पर थी। बलवीर सिंह ने यह स्वीकार किया कि वे 13 की शाम को स्नातकोत्तर विभाग के बाहर से मोटरसाईकिल ले गये थे(बाईक को कथित रुप से चोरी से बचाने के लिए)। उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि अगले दिन उन्होंने स्नातकोत्तर विभाग को सूचना देने या फिर मोटरसाईकिल का मालिक कौन है, यह जानने की किसी भी तरह की कोशिश नहीं की। जब उन्होंने कहा कि वे चोरी की शिकायत दर्ज करेंगे, तो वे मोटरसाईकिल देने को तैयार हो गये, लेकिन जाने के पहले उनके सहयोगी ए एस आई सुरेश ठाकुर ने उनसे 500 रुपये रिश्वत की मांग की,लेकिन उन्होंने रिश्वत देने से मना कर दिया। थाना प्रभारी द्वारा यह भी जानकारी दी गयी कि थाना प्रभारी बीएन सिंह और उनके सहयोगियों द्वारा बताया गया िक बाईक की जब्ती की पुलिस रिकॉर्ड में दर्ज नहीं की गयी है, तो इस निष्कर्ष पर पहुंचा जा सकता है कि यह चोरी का मामला है?उन्होंने कहा कि इस घटना ने उन्हें लालपुर थाना के पुलिस अधिकारियों के व्यवहार और कार्य में नैतिकता का बुरा अनुभव दिया है, चूंकि रांची पुलिस पर शिकायत दर्ज करने के लिए बिल्कुल भरोसा नहीं किया जा सकता,इसलिए यह शिकायत उपायुक्त के समक्ष की गयी है। ज्यां द्रेज ने इस मामले में बलबीर सिंह और सुरेश ठाकुर के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई का भी आग्रह किया है।
गौरतलब है कि अर्थशास्त्र्ा पर ज्यां द्रेज की 12 किताबें प्रकाशित हो चुकी है। बेल्जियम में पैदा हुए ज्यां द्रेज काफी लंबे समय से भारत में रह रहे हैं। उन्होंने अर्थशास्त्र्ा की 12 किताबें लिखी हैं और भारत में मनरेगा, चाइल्ड हेल्थ और शिक्षा पर काफी काम किया है। ज्यां द्रेज लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स सहित कई विश्वविद्य्नालय में विजिटिंग फैक्लटी भी रहे हैं।
ज्यां द्रेज रांची विश्वविद्य्नालय के एमए डिपार्टमेंट में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने गए अपने एक परिचित से बाइक लेकर गए थे। विश्वविद्य्नालय के पार्किंग से उनकी बाइक गायब हो गई। ज्यां द्रेज ने थाना प्रभारी पर बाइक छोड़ने के बदले 500 रुपये रिश्वत मांगने का आरोप लगाया है। रांची डीसी ने लालपुर थाना प्रभारी और एक अन्य पुलिसकर्मी को निलंबित करते हुए मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *