पूर्व मंत्री योगेंद्र साव पर लगाये गये सीसीए पर पुनर्विचार का आग्रह

रांची,16दिसंबर।कांग्रेस सदस्यों की ओर से पूर्व मंत्री योगेंद्र साव पर अपराध नियंत्र्ाण अधिनियम, सीसीए लगाये जाने को लेकर कार्यस्थगन प्रस्ताव दिया गया, जिसे विधानसभा अध्यक्ष ने अमान्य कर दिया। इस संबंध में कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने बताया कि पूर्व मंत्री पर जिन चार मामलों को लेकर सीसीए लगाया गया है, उसमें से एक मामला आदर्श आचार संहिता से जुड़ा है,जबकि तीन अन्य मामला विस्थापितों के मुद्दे को लेकर जनप्रतिनिधियों की लड़ाई से संबंधित है। उन्होंने कहा कि योगेंद्र साव निर्वाचित जनप्रतिनिधि रहे है और इस बार उनकी पत्नी चुनाव जीत कर आयी है,यदि उनकी छवि खराब होती, तो जनता उन्हें चुन कर नहीं भेजती। श्री आलम ने राज्य सरकार से पुनर्विचार करते हुए योगेंद्र साव पर लगाये गये सीसीए को वापस लेने या मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की। झारखंड विकास मोर्चा के प्रदीप यादव ने कहा कि किसी के खिलाफ सीसीए लगाने को लेकर संचिका मुख्यमंत्री तक आती है और पूर्व मंत्री योगेंद्र साव पर कोई आपराधिक मामला नहीं है,बल्कि जनहित से जुड़े मुद्दों को लेकर आंदोलन के दौरान यह मामला दर्ज हुआ है। विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव ने कहा कि आज विस्थापन और पुनर्वास के मसले पर सदन में भोजनावकाश के बाद विशेष चर्चा होगी, चर्चा के बाद सरकार की ओर से इस संबंध में भी पक्ष रखा जाएगा

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *