सुखाड़ की स्थिति भयावह,केंद्रीय टीम खुद क्षेत्र जाकर देंखेःसीएम

केंद्रीय टीम के साथ बैठक

1
रांची,19दिसंबर। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा सुखाड़ की घोषणा की जा चुकी है और केंद्र से आयी टीम सुखाड़ की भयावह स्थिति का मुआयना खुद क्षेत्र में जाकर करें । उन्होंने केंद्रीय टीम से अपील की कि नुकसान का शीघ्र आकंलन करते हुए राज्य सरकार द्वारा सूखे की स्थिति से निपटने के लिए भेजे गए प्रस्ताव पर शीघ्र कार्रवाई करें, ताकि सुखाड़ की स्थिति से निपटा जा सके। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने 1140.77 करोड़ रु0 का प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा है। इसमें कृषि के लिए 216.39 करोड़ रु0, नगर प्रक्षेत्र के लिए 30.77 करोड़ रु0, पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के लिए 170.39 करोड़ रु0 तथा जल संसाधन के लिए 723.21 करोड़ रु0 है। वे आज प्रोजेक्ट भवन में सुखाड़ पर इंटर मिनिस्ट्रियल सेंट्रल टीम के साथ बैठक कर रहे थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सुखाड़ की स्थिति से निपटने के लिये राज्य सरकार की ओर से हर पंचायत में 10 क्विंटल अनाज का बफर स्टॉक भी उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि झारखंड में 1100-1200 मिली लीटर बारिश होती है। लेकिन बारिश के समय पर नहीं होने से सुखाड़ की स्थिति पैदा होती है। जरुरत है इस पानी को रोकने की। इसके लिए अगले वर्ष बरसात के पूर्व ही तालाब एवं कुओं की मरम्मति के साथ-साथ नए तालाब एवं कुंआ खुदवाने तथा चेक डैम के निर्माण का कार्य पूरा कर लिया जायेगा ताकि उस क्षेत्र का जल उसी क्षेत्र में संचित हो सकेगा। इससे भूमि जलस्तर बना रहेगा एवं पूरे साल कृषि कार्य किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि भारत सरकार को मनरेगा में 100 दिन के काम को 150 से 200 दिन तक बढ़ाने के लिए प्रस्ताव दिया गया है, जिससे सुखाड़ के कारण उत्पन्न बेरोजगारी की स्थिति को दूर करने में काफी हद तक मदद मिलेगी।
बैठक में केंद्रीय टीम का नेतृत्व कर रहे केंद्रीय कृषि मंत्रालय के अपर सचिव जलज श्रीवास्तव ने कहा कि मंत्रालय को जैसे ही इस बैठक में लिये गये निर्णय की औपचारिक सूचना प्राप्त होगी, तत्काल कार्रवाई की जायेगी। मुख्यमंत्री ने सोमवार तक इसकी औपचारिकतायें पूरी करने का निर्देश दिया। वहीं राज्य सरकार की ओर से बैठक कृषि मंत्री रणधीर कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव संजय कुमार, अपर मुख्य सचिव एनएन पांडेय, वित्त विभाग के प्रधान सचिव अमित खरे, मुख्यमंत्री के सचिव सुनील वर्णवाल समेत अन्य विभागों के प्रधान सचिव व सचिव उपस्थित थे।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *