लोहरदगा उपायुक्त के कार्यशैली की आलोचना

1
रांची,25जनवरी। प्रदेश कांग्रेस कमिटी के महासचिव आलोक कुमार दूबे, प्रवक्ता राजेश ठाकुर एवं सचिव जगदीश साहू ने लोहरदगा उपायुक्त के कार्यशैली की आलोचना करते हुए कहा कि झारखण्ड में राजेश ठाकुर ने कहा कि पेशरार लोहरदगा का उग्रवाद प्रभावित प्रखण्ड है वहॉं अब तक प्रखण्ड कार्यालय का निर्माण नहीं हो सका है, जबकि प्रखण्ड कार्यालय के निर्माण के लिए छः माह पूर्व हीं एकरारनामा हो चुका है, बावजूद अबतक शिलान्यास न होने के कारण काम रुका पड़ा है। वहॉं के वृद्ध, विधवा एवं अन्य लोगों को किसी भी कार्य के लिए 35 कि.मी. दूर लोहरदगा जिला मुख्यालय में आना पड़ता है, जो दुःखद है।
उन्होंने कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सह विधायक सुखदेव भगत स्वंय वरीय पदाधिकारी रह चुके हैं, उन्हें कार्यपालिका में काम करने का लम्बा अनुभव है ऐसे में उपायुक्त द्वारा उनके संबंध में टिप्पणी करना निन्दनीय है। श्री भगत पूर्व में भी विधायक रह चुके है और वर्तमान में भारी मतों से चुनाव जीतकर विधायक बने हैं। उनके अच्छे आचरण से झारखण्ड की विधायिका और कार्यपालिका भलीभॉंति परिचित है। ऐसे में उनका कर्त्तव्य बनता है कि दूर-दराज के ग्रामीण जनता की समस्याओं के समाधान के लिए प्रयासरत रहें और जल्द से जल्द उनकी समस्याओं का निराकरण करें। पार्टी नेताओं ने इस मामले लोहरदगा के उपायुक्त के व्यवहार का निन्दा की और कहा कि इस मसले पर सड़क से सदन तक लड़ाई लड़ी जायेगी। उपायुक्त द्वारा गैर जिम्मेदाराना बयान देने की बात को विधानसभा अध्यक्ष तक पहुंचाने की बात कही है।जनप्रतिनिधियों का उपायुक्त सम्मान नहीं करते। पिछले दिनों गढ़वा में लोक लेखा समिति के प्रतिनिधियों के साथ हुए व्यवहार एवं अब लोहरदगा के उपायुक्त के अनर्गल बयानबाजी से यह परिलक्षित होता है कि अफसरशाही राज्य में सर चढ़ कर बोल रहा है।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *