आर्थिक नाकेबंदी के दौरान एक छटाक खनिज संपदा बाहर नहीं जाएगा-बाबूलाल

3रांची,5जून। झारखंड विकास मोर्चा द्वारा प्रस्तावित ग्यारह और बारह जून को आर्थिक नाकेबंदी को लेकर पार्टी कार्यकर्त्ताओं की आज रांची में बैठक हुई। बैठक को संबोधित करते हुए झाविमो अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने दावा किया कि आर्थिक नाकेबंदी के दौरान राज्य से एक छटाक खनिज संपदा बाहर नहीं जाएगा। उन्होंने कार्यकर्त्ताओं को शांतिपूर्ण और अहिंसात्मक तरीके से आर्थिक नाकेबंदी कराने का निर्देश दिया।
रांची जिला महानगर और ग्रामीण जिला की संयुक्त बैठक को संबोधित करते हुए बाबूलाल मरांडी ने कहा कि आगामी 11 व 12 जून को घोषित आर्थिक नाकेबंदी आम जनता व कार्यकर्त्ताओं के सहयोग से पूर्ण सफल और ऐतिहासिक होगा। उन्होंने राज्यभर के लाखों कार्यकर्त्ताओं और आम लोगों से सड़क पर उजर कर सरकार द्वारा घोषित स्थानीय नीति का विरोध करने की अपील की है।
बैठक में पूर्व मंत्री बंधु तिर्की ने कहा कि सरकार द्वारा घोषित स्थानीय नीति यहां के आदिवासियों व मूलवासियों के लिए डेथ वारंट है, सरकार यहां के भूमि पुत्रों को बंदूक से नहीं कलम की नोंक से मिटाना चाहती है, झाविमो इस मंशा को कतई कामयाब नहीं होने देगा।
बैठक निर्णय लिया गया कि रांची के 11 केंद्रों पर हजारों की संख्या में कार्यकर्त्ता नाकेबंदी के लिए दो दिनों तक सड़कों पर उतरेंगे। वहीं 6 से 8 जून तक सभी ट्रांसपोर्टरों, एफसीआई, सीसीएल, रेलवे, चेंबर, ट्रक ऑनर एसोसिएशन व लघु उद्य्नोगों से मिलकर बाबूलाल मरांडी द्वारा हस्ताक्षरित पत्र को देकर नाकेबंदी में सहयोग की अपील की जाएगी। इस बैठक् में रतिया गंझू, नजीबुल्लाह खां, अशोक चौधरी, विनीता मुंडा, गीता नायक, जीवेश सिंह सोलंकी, दयानंद राम, मंसूर अंसारी, भीम शर्मा समेत कई कार्यकर्त्ता उपस्थित थे।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *