हरित क्रांति के लिए नयी योजना आर्या की होगी शुरुआत

कृषि क्षेत्र से जुड़ेंगे 65हजार युवा, 8-10लाख हेक्टेयर कृषि योग्य भूमि होगी तैयार
रांची,17जून। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राज्य में हरित क्रांति लाने हेतु एक अनूठी पहल की है। ग्रामीण युवकों को कृषि की ओर आकर्षित करने के लिए नई योजना अट्रैक्टिंग रुरल यूथ ऑफ एग्रीकल्चर, आर्या की शुरु की जा रही है। .षि को बढ़ावा देने तथा राज्य को खाद्य्नान्न के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए .षि प्रक्षेत्र में युवाओं के कौशल विकास का निर्णय लिया गया है। एग्रीकल्चर टेक्नोलॉजी मैनेजमेंट तथा प्रशिक्षण, आत्मा जैसी संस्थाओं के माध्यम से प्रत्येक गांव के युवकों को जोडा़ जायेगा। प्रशिक्षण के बाद उन युवकों से गांव में ही .षि को बढ़ावा देने के लिए सेवा ली जायेगी। “आर्या” कार्यक्रम के तहत प्रत्येक गांव से दो युवकों का चयन कर उन्हें प्रशिक्षित किया जायेगा। वे गांव की परती भूमि को चिह्नित कर उसे .षि योग्य बनाने तथा किसानों को दलहन की खेती के लिए प्रोत्साहित करेंगे ।
मुख्यमंत्री ने विभाग को निदेश दिया है कि ग्रामीण क्षेत्र के युवाओं को .षि व उससे संबंधी क्षेत्र से जोड़ें ताकि शहरों की ओर पलायन करने वाले युवाओं को उनके ही गांव में .षि आधारित रोजगार एवं नियमित आय मिल सके।
मुख्यमंत्री दास ने निर्देश दिया है कि युवाओं का एक नेटवर्क स्थापित किया जाये, ताकि .षि उत्पादों का प्रसंस्करण , विपणन एवं मूल्य संवर्द्धन जैसे कार्यों को गति दी जा सके। श्री दास ने निदेश दिया कि विभिन्न कार्यरत हितधारियों के साथ समन्वय स्थापित कर कृषि के क्षेत्र में उपलब्ध संभावनाओं का उपयोग सुनिश्चित करायें। उन्होंने चयन में महिलाओं को प्राथमिकता देने का भी निदेश दिया।
आर्या के तहत युवाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा। इसका उद्देश्य .षि विज्ञान केन्द्र के निदेशन में अपने गांव के अंदर परती जमीन की भूमि चिह्नित करने एवं उस पर दलहन की खेती के लिए किसानों को प्रेरित करना, धान की खेती के बाद परती भूमि पर खेती के लिए किसानों को प्रेरित करना, मृदा स्वास्थ्य कार्ड के आधार पर उर्वरक का उपयोग करने के लिए किसानों को प्रेरित करना, नीम कोटेट यूरिया का अपने क्षेत्र में व्यापक प्रचार-प्रसार करना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए किसानों को प्रेरित करना और रबी की खेती को बढ़ावा देने के लिए किसानों को प्रोत्साहित करना है। इसके अलावा किसानों को रबी के मौसम में मवेशी को खुले में चराने की प्रवृति पर रोक लगाना, बीजोपचार को बढ़ावा देना, प्रत्येक गांव में उन्नत बीज को उत्पादित कराकर किसानों के बीच प्रचार-प्रसार कराना, किसानों का फार्मर्स पोर्टल पर निबंधन कराना, किसान कॉल सेंटर में फोन करके नयी तकनीकी की जानकारी किसानों को उपलब्ध कराना और अपने क्षेत्र में कृषक समूह का गठन करना है।

Please follow and like us:

One thought on “हरित क्रांति के लिए नयी योजना आर्या की होगी शुरुआत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *