बटाने जलाशय के विस्थापितों को शीघ्र मुआवजा राशि देने का निर्देश

रांची,18जून। पलामू के उपायुक्त ने निर्देश दिया कि “बटाने जलाशय योजना से प्रभावित विस्थापितो का लंबित मुआवजा राशि का भुगतान शीघ्र करना सुनिश चत करें। उन्होंने कहा कि जहॉ का भू अभिलेख अप्राप्त है, वहॉ का अभिलेख प्राप्त कर विकास पुस तका में दर्ज कर अग्रेत्तर कार्रवाई की जाय। वे आज बटाने जलाशय योजना के विस्थापितो के पुर्नवास से संबंधित मामलों की समीक्षा कर रहे थे।
बैठक में पुर्नवास पदाधिकारी, उत्तरी कोयल परियोजना, मेदिनींनगर द्वारा बताया गया कि 22 करोड़ की राशि का आवंटन प्राप्त हुआ है, जिसके विरुद्व 3 करोड़ 24 लाख रुपये का भुगतान किया जा चूका है। उपायुक्त ने 750 एकड़ अधिग्रिहित भूमि की राशि का भुगतान शीघ्र करने एवं दस दिनों के अन्दर नोटिफिकेशन करने का निर्देश दिया। उन्होनें मेदिनींपुर, गोसाईडिह गांव का क्षेत्र का जल्द सर्वे कराकर आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश दिया।
उपायुक्त ने प्रत्येक बुधवार को प्रखण्ड कार्यालय में स्थित किसान भवन में सभी संबंधित पदाधिकारियों एवं राजस्व कर्मचारी को उपस्थित होकर समन्वय के साथ कार्य करने का निदेश दिया। इस हेतु अनुमंडल पदाधिकारी छत्तरपुर के स्तर पर एक समन्वय समिति गठित करने का निर्णय लिया गया ताकि लंबीत मामलों को चिन्हित करते हुए उसका समाधान किया जा सकें। उपायुक्त ने बटाने जलाशय में गेट निर्माण के बंद पड़े कार्य को अधिष्ठापित करने के लिए उसे पुनः चालू करने का निर्देश जल संसाधन विभाग को दिया।
इस मौके पर सांसद बी0डी0 राम द्वारा पुर्नवास के लिये प्राप्त आवंटन की राशि को पुर्नवास नीति 2012 के प्रावधानों के अनुसार मुआवजा राशि का भुगतान शीघ्र करने का निर्देश दिया, साथ ही बटाने जलाशय योजना में विस्थापितो के लिये पुर्नवास हेतु विगत पांच वर्षो का प्राप्त आवंटन एवं भुगतान का व्योरा भी उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। विधायक छत्तरपुर राधाकृष्ण किशोर द्वारा प्राप्त मामलों का प्रस्ताव शीघ्र तैयार कर उपस्थापित करने का निदेश दिया, ताकि सरकार से अनुमोदन प्राप्त कर लंबीत मामलो का निपटारा शीघ्र किया जा सकें।
बैठक में अनुमंडल पदाधिकारी छत्तरपुर, जिला भू-अर्जन पदाधिकारी, पुर्नवास पदाधिकारी, कार्यपालक अभियंता, जल संसाधन विभाग एवं बटाने विस्थापित समन्वय समिति पलामू के सदस्य उपस्थित थे।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *