भैरवा जलाशय के गोला सिकिदरी डूब क्षेत्र का नये सिरे से होगा सर्वेःचंद्रप्रकाश

सिंचाई योजनाओं का हाल जाना जाना, चेकडैम व लघु सिंचाई योजनओं का टेंडर प्रक्रिया मौजूदा बारिश के मौसम में ही पूरा करने का दिया आदेश
रांची 22 अगस्त । राज्य के जल संसाधन, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री चन्द्र प्रकाश चौधरी ने आज नेपाल हाउस सचिवालय के अपने कार्यालय कक्ष में बारी-बारी से सिंचाई योजनाओ का हाल जाना। साथ ही मौजूदा बारिश के मौसम में जला ायों में बढ़ते जलस्तर के मद्देनजर उठाये गये कदमों से भी अवगत हुए। उन्हांने बैठक में आये जल संसाधन विभाग के सुखदेव सिंह को इस बारिश के मौसम में ही चेकडैम एवं लधु सिंचाई योजना के तहत बनाये जाने वाले सतही जल योजना के टेंडर से जुड़ी सभी प्रक्रिया को पूरा कर बारिश के बाद योजना को धरातल पर उतारने का निर्देश दिया। उन्होंने छोटी-छोटी सिंचाई योजनाओं को उपयोगी बताया और कहा कि इन्हीं योजनओं से सीधे पानी खेतों में पहुंचाया जा सकेगा। उन्होंने भैरवा जला ाय योजना के डूब क्षेत्र गोला सिकीदिरी का नये सिरे से सर्वे कराकर प्रभावित लोगों के बीच भुगतान करने का निर्दे ा दिया। साथ ही इस बात से अवगत कराया कि भैरवा जला ाय से होने वाला जल प्रवाह इन क्षेत्रों में जमा हो रहा है वहीं इससे लगा फसल भी वर्बाद हो रहा हैं। बढ़ते जल स्तर की वजह से खतरे की स्थिति भी बनी हुई है, ऐसे में तत्काल कदम उठाना जरुरी हो गया है। उन्होंने तोपचांची झील में जमें सिल्ट को हटाने और छोटे-छोटे कामों की वजह से प्रभावित होने वाली योजना को भी प्राथमिकता के आधार पर पूरा करने का निर्दे ा दिया। साथ ही उन्होंने इस बात के लिए सावधान किया कि अब यह ि ाकायत नहीं आनी चाहिए कि योजना की काम तो पूरा हो गया मगर गेट का काम अधूरा है। उन्होंने जला ायों में बढ़ते जलस्तर से जान-माल का नुकसान नहीं हो इसका ध्यान रखने और आव यकता पड़ने पर फाटक खोलने और अन्य जरुरी सावधानी बरतने का निर्देश दिया। बैठक में सुरंगी, रामरेखा, कोनार, सोनुवा सिंचाई योजना के बचे कार्य को तय समय सीमा के भीतर पूरा करने पर जोर दिया। उन्होंने अमानत, बराज, मण्डल डैम, कंस व रायसा सहित वृहद, मध्यम एवं लघु सिंचाई योजनाओं का हाल जाना। बैठक में अभियंता प्रमुख शिवानन्द राय, मुख्य अभियंता अ ाक कुमार, मंत्री के आप्त सचिव डॉ. लम्बोदर महतो एवं संबंधित अधीक्षण अभियंता, कार्यपालक अभियंता, सहायक अभियंता व भू-अर्जन पदाधिकारी मौजूद थे।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *