रिटायर ई.ई. से सूद के साथ वसूली जायेगी पेंशन से 10 प्रतिशत राशि

रांची 24 अगस्त । राज्य के जल संसाधन, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री चन्द्र प्रकाश चौधरी ने बगैर मंजूरी के प्राक्कलन बनाकर तालाब निर्माण में अनियमितता करने वाले सेवा निवृत्त कार्यपालक अभियंता श्याम लाल मेहरा एवं सेवा निवृत्त कनीय अभियंता ठाकुर जगत प्रकाश सिंह के खिलाफ कार्रवाई की है। उन्होंने सेवा निवृत्त कार्यपालक अभियंता से जहां 80 लाख 89 हजार 427 रुपये 86 पैसे को 12 प्रतिशत सूद के साथ वसूली करने वहीं मिलने वाले पेंशन से 10 प्रतिशत राशि 10 वर्षों तक काटने का फरमान सुनाया है। सेवा निवृत्त कार्यपालक अभियंता जब लघु सिंचाई प्रमण्डल गढ़वा, जामताड़ा तथा दुमका में पदस्थापित रहे थे, तो तालाब निर्माण में मनमर्जी कर घोर अनियमितता की। साथ ही कोल्हुआ तालाब, राजा पहाड़ी तालाब, तिवारी मरहटिया तालाब एवं बकाया तालाब योजना का कार्यान्वयन बगैर मुख्य अभियंता की सहमति लिये अपने स्तर से घपला करने के उद्देश्य से प्राक्कलित राशि बना कर करा दिया। इतना ही नहीं कार्यपालक अभियंता ने अन्य सलदाहा तालाब व दक्षिण डीह तालाब योजना से संबंधी मापी पुस्तिका को भी उपलब्ध कराना जरुरी नहीं समझा। साथ ही कराये गये तालाब निर्माण में भी गुणवता का ध्यान नहीं रखा गया। इस मामले की जांच की गई तो कार्यपालक अभियंता पर लगा आरोप जांच में सही पाया गया। इसी प्रकार मंत्री श्री चौधरी ने अनियमित भुगतान संबंधी आरोप प्रमाणित होने पर लघु सिंचाई प्रमण्डल जामताड़ा के तत्कालीन कनीय अभियंता ठाकुर जगत प्रकाश सिंह, जो मौजूदा समय में सेवा निवृत्त हैं, के खिलाफ कार्रवाइ्र की है। मिलने वाले पेंशन से तीन प्रतिशत राशि काट दिया है। यह राशि तीन वर्षों तक काटी जायेगी।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *