जन्म देने वाली माताओं को मिलेगा 5 किग्रा घी-स्वास्थ्य मंत्री

सेवा सदन असाध्य रोगों के इलाज करने वाले अस्पतालों की सूची में होगा शामिल, रिम्स में दलालों के प्रवेश पर लगेगा पाबंदी
रांची,31अगस्त। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी ने कहा है कि जन्म देने वाली मताताओं को सरकार पांच किलोग्राम घी देने का प्रावधान करने जा रही है, इस दिशा में विभागीय प्रक्रिया को पूरा किया जा रहा है। वे आज रांची के नागरमेल मोदी सेवा सदन अस्पताल के 59वें स्थापना दिवस समारोह को संबोधित कर रहे थे।
स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी घोषणा की कि सेवा सदन को असाध्य रोगों के इलाज करने वाले अस्पतालों की सूची में शामिल किया जाएगा और एंबुलेंस भी सरकार उपलब्ध कराएगी। उन्होंने बताया कि विभागीय जांच और प्रक्रिया पूरी कर सेवा सदन में उन असाध्य रोगों की सुविधा प्रदान की जाएगी, जिसका अभी यहां बेहतर तरीके से इलाज चल रहा है। उन्होंने इसी तरह से राज्य में निजी क्षेत्र में बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने वाले अस्पतालों को भी सरकार की ओर से हरसंभव सहयोग का भरोसा दिलाया। रामचंद्र चंद्रद्रवंशी ने बताया कि वे पिछले दिनों राजस्थान गये थे, वहां उन्होंने देखा कि सभी माताओं का प्रसव सरकारी अस्पताल में होता है और सरकार उन्हें 1400 रु. के अलावा जन्म देने वाली महिलाओं को पांच किग्रा घी भी उपलब्ध कराती है। उन्होंने इस संबंध में मुख्यमंत्री से बात की है और विभागीय संकल्प जारी करने को कहा है, आने वाले कुछ दिनों में यह प्रक्रिया पूरी होने के बाद एक-दो महीना में महिलाओं को यह लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि राज्य में तीन मेडिकल कॉलेजों की जल्द ही आधारशिला रख दी जाएगी।
स्वास्थ्य मंत्री ने रांची के रिम्स की व्यवस्था में सुधार की आवश्यकता पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि जेनरिक दवाओं को लेकर 4 अगस्त को सभी चिकित्सकों की बैठक बुलाने का निर्देश निदेशक को दिया है और अब रिम्स में दलालों के प्रवेश पर सजा होगी। उन्होंने राज्य सरकार की ओर से घोषित निजी अस्पतालों व मेडिकल कॉलेजों को सुविधा उपलब्ध कराने की योजना के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी। साथ ही सेवा सदन जैसे अस्पताल स्थापित करने वाले लोगों के प्रति आभार व्यक्त किया।
इससे पहले रांची नगर-निगम के उपमहापौर संजीव विजयर्वीय ने बताया कि दोस्त दवाई केंद्र के कार्यां की प्रशंसा की और राज्य सरकार से ऐसे निजी अस्पतालों को प्रोत्साहन देने का आग्रह किया। उन्होंने पैसा दोहन करने वाले निजी अस्पतालों की आलोचना करते हुए कहा कि नर सेवा ही नारायण सेवा है।
इससे पहले सेवा सेदन के अध्यक्ष विष्णु लोहिया, सचिव अरुण छावछड़िया ने अस्पताल के कार्यां व उपलब्धियों का ब्यौरा दिया। कार्यक्रम में सेवा सदन के पांच पूर्व उपाध्यक्षों को सम्मानित किया गया, वहीं अस्पताल में अच्छा काम करने वाले कर्मचारियों को भी सम्मानित किया गया। समारोह में उपाध्यक्ष पुनीत पोद्दार, पूर्व सांसद अजय मारु, सुरेश बजाज, मधुसुदन महेश्वरी समेत सेवा सदन के कई सदस्य और सामाजिक कार्यकर्त्ता मौजूद थे।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *