कला से बच्चों का मानसिक विकास होता है-राज्यपाल

रांची,16सितंबर। राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि कला से बच्चों का मानसिक विकास होता है। वे अपने मन में निहित भावना को कला व पेंटिंग के माध्यम से प्रकट करते हैं। उन्होंने कहा कि इससे बच्चों के मनोभाव को जान सकते हैं कि वे किस दिशा की ओर जा रहे हैं अथवा उनका किस ओर रुझान है? राज्यपाल आज राज भवन में झारखण्ड राज्य बाल कल्याण परि ाद द्वारा आयोजित ऑन द स्पॉट पेंटिंग प्रतियोगिता में विजयी प्रतिभागियों को सम्मानित कर रही थी। कार्यक्रम के अवसर पर राज्यपाल के प्रधान सचिव एस.के. सतपथी, परिषद की उपाध्यक्षा रुपलेखा प्रसाद, ज्योति बजाज, पूजा ठाकुर, पुष्पा भुवालिका, रंजना मलिक, पूनम आनन्द समेत परि ाद के कई सदस्यगण उपस्थित थे। इस प्रतियोगिता को सफल बनाने हेतु प्रधान सचिव, कार्मिक, प्रशासनिक सुधार एवं राजभा ा विभाग निधि खरे ने विशेष योगदान दिया तथा बच्चों को पेंटिंग करते समय उनके मनोबल को बढ़ाने का कार्य किया।
राज्यपाल ने इस अवसर पर बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रत्येक बच्चे में प्रतिभा निहित है। सभी अपने में विशिष्ट है, अपने में विजेता है। उन्होंने कहा कि हर बच्चों के अंदर विशे ाताएँ हैं, उनमें असीम क्षमतायें हैं, जिसे प्रखर करना है ताकि बच्चों की उन्नति हो और वे रा ट्र के एक बेहतर नागरिक बनें। उन्होंने कहा कि बच्चे ही इस रा ट्र के भवि य हैं। उन पर ही रा ट्र की भवि य की दशायें निर्भर हैं। उन्होंने कहा कि परि ाद द्वारा बच्चों में निहित प्रतिभा को निखारने की दिशा में झारखंड राज्य बाल कल्याण परि ाद के कार्यों की सराहना की।
राज्यपाल ने इस अवसर पर कहा कि इस पेंटिंग प्रतियोगिता बहुत-से दिव्यांग बच्चों ने भाग लिया है। ये उनके बुलन्द मनोबल को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि हमारे दिव्यांग भले ही शारीरिक तौर पर अपेक्षाकृत सबल न हो या अन्य किसी विकार से ग्रस्त हों, लेकिन वे मानसिक रुप से सबल व सुढृढ़ हैं, उनके हौसले बुलन्द हैं। उन्होंने अपनी प्रतिभा व कौशल से विभिन्न क्षेत्रों में न केवल सफलतायें अर्जित की है बल्कि कई कीर्तिमान भी स्थापित किये हैं।
स्वागत भा ाण करते हुए परि ाद की उपाध्यक्षा रुपलेखा प्रसाद ने कहा कि इस प्रतियोगिता के अच्छे पेंटिंग को भारत बाल कल्याण परि ाद के समक्ष भेजा जायेगा। उन्होंने कहा कि हमारे राज्य कई बच्चे रा ट्रीय स्तर पर भी पुरस्कृत हो चुके हैं। उन्होंने झारखण्ड राज्य बाल कल्याण परि ाद बच्चों के विकास के लिए सदा प्रयासरत रहा है। परि ाद द्वारा बच्चों को कौशल विकास का प्रशिक्षण देने एवं उन्हें स्वच्छता अभियान के प्रति जागरुक करने की दिशा में भी ध्यान दिया जायेगा। उन्होंने इस अवसर पर परि ाद के सक्रिय सदस्य श्री अनवर अली के निधन की सूचना देते हुए परि ाद को दिये गिये योगदानों की चर्चा की। इस अवसर पर श्री अनवर अली के सम्मान में सभी के द्वारा एक मिनट का मौन रखा गया तथा उनकी पत्नी को राज्यपाल महोदया द्वारा स्मृति चिन्हि भेंट की गई।
इस अवसर पर राज्यपाल महोदया द्वारा सभी विजयी प्रतिभागियों को सम्मानित किया गया। विजयी प्रतिभागियों के नाम इस प्रकार हैं-
ग्रीन ग्रुप (5 से 8 वर्ष)- प्रथम- पूनम कुमारी, द्वितीय- प्रियांशु कुमार, तृतीय- नीलू क्रिस्टू हेम्ब्रम, सांत्वना पुरस्कार- प्रीति कुमारी, जस्वनाथ सावियान व्हाईट ग्रुप (9 से 12 व ार्)- प्रथम- सुनिता कुमारी, द्वितीय- प्रतिभा टेटे, तृतीय- उ ा कुमारी, सांत्वना- खुशी कुमारी, ट्विंकल सिंह
ब्लू ग्रुप (13 से 16 वर्ष)- प्रथम- देवाशी ा कुमार, द्वितीय- राजकुमार तृतीय- कुन्दन कुमार, सांत्वना पुरस्कार- अमर, गुड़िया कुमारी
येल्लो ग्रुप (5 से 10 वर्ष) – शारीरिक रुप से दिव्यांग प्रथम- मो0 यासिर अंसारी, द्वितीय- मन्नु लोहरा, तृतीय- चन्द्र बिन्दु भगत मानसिक रुप से दिव्यांग- प्रथम-आदित्य कुमार, द्वितीय- दक्ष त्रिवेदी, तृतीय- अर्नव कुमार दृ टबाधित दिव्यांग- प्रथम- सनम कुमार, मुकबधिर दिव्यांग- प्रथम- करण कुमार द्वितीय- वी. वैज्ञा, तृतीय- सुमिता कुमारी
येल्लो ग्रुप के सांत्वना प्राप्त करने वाले बच्चे- आरती कुजूर, अजित मिंज, गौरव वर्मा, मो. सफील्लाह, निकिता
रेड ग्रुप (11 से 18वर्ष)र् – शारीरिक रुप से दिव्यांग- प्रथम- ललिता कुमारी, द्वितीय- लक्ष्मी कुमारी, तृतीय- जयां मजूमदार मानसिक रुप से दिव्यांग- प्रथम- सुब्रांशु बोस, द्वितीय- स्नेहलता कुमारी, तृतीय- मोनिका कुमारी दृ टबाधित दिव्यांग- प्रथम- सोनू महतो मुकबधिर दिव्यांग- प्रथम- प्रियंका कुमारी, द्वितीय- संजय कुमार, तृतीय- विपुल कुमार रेड ग्रुप के सांत्वना प्राप्त करने वाले बच्चे- धर्मेन्द्र महली, ओम प्रकाश, रेखा कुमारी, सोनू उराँव, रैना महली, सचिन कुमार रजक

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *