दोनों हाथ कटने के बाद भी दिव्यांग पैरों से पढ़कर गढ़ने में लगा है अपना भविष्य

रांची,17जुलाई ।चतरा जिला में एक ऐसा दिव्यांग बच्चा है जिसके दोनों हाथ नहीं है बावजूद वो अपनी पढाई करना चाहता है। एक दर्दनाक हादसा में दोनों हाथ गंवा चूका 12 वर्षीय नाबालिग दिव्यांग अपने बल बूते स्कूल में पढाई कर रहा है। हाथ नहीं होने के बावजूद वह पैरों से कापी पर लिखता है। गरीबी और तंगहाली का जीवन बसर करने वाले इस परिवार को अब तक कोई भी सरकारी सहायता नहीं मिल पाया है। हालांकि डीसी संदीप सिंह को इसके जज्बे के बारे में जानकारी दी गयी तो उन्होंने कहा है दिव्यांग को हर सरकारी सहायता दी जायेगी। उन्होंने कहा कि कृत्रिम हाथ लगाने का भी प्रयास किया जायेगा।
जिला मुख्यालय से करीब तीस किलोमीटर की दूरी पर स्थित हंटरगंज प्रखंड के देवरिया गांव के 12 वर्षीय अमन कुमार का दोनों हाथ नहीं है। उसकी मां और परिवार के अन्य सदस्य उसे नहलाते है और अपने हाथों से खाना खिलाती है। उसके बाद उसकी दिनचर्या शुरु होती है। इतना ही नहीं तैयार होकर अमन अपनी पढाई भी करता है। दोनों हाथ नहीं है फिर भी अपने पैरों से अपनी कापी पर लिखता है। अपना नाम भी बखूबी लिखता है और वह सरकार से सहायता की गुहार भी लगाता है। अमन का कहना है शिक्षा बेहद जरुरी है और पढाई कर शिक्षक बनना चाहता है।
उसकी मां हेमंती देवी ने बताया कि बिजली का करंट लगने से दोनों हाथ कट गया थाद्य तत्पश्चात काफी इलाज के बाद इसकी जान बचायी जा सकी है। उसने बताया कि महज सात वर्ष की उम्र में ही दोनों हाथ कट गया था। वो कहती है कि हाथ नहीं होने के कारण परिवार के सभी लोग सेवा में लगे रहते हैं। उसके साथ-साथ उसका भाई भी काफी मदद करता है। उसने बताया कि पति बाहर में कमाकर कर्ज चुकता कर रहे हैं। उसने कहा कि आगे न जाने क्या होगा।
स्कूल के शिक्षक भी अमन के अद्मय साहस की सराहना करते है। शिक्षक राकेश कुमार का कहना है कि यदि सरकारी के तरफ से थोड़ी भी सहायता मिले तो यह बच्चा अच्छी पढाई कर अपने जीवन में बेहतर करेगा। लेकिन सबों की आस सरकार व प्रशानिक महकमा पर टिका हुआ है।
दूसरी तरफ चतरा के डीसी संदीप सिंह ने कहा है कि दिव्यांग अमन की पूरी मदद की जायेगी। उन्होंने बताया कि हंटरगंज प्रखंड के बीडीओ केवल कृष्ण अग्रवाल को उस परिवार से मिल कर जांच रिपोर्ट बनाने का आदेश दिया गया है। उन्होंने कहा तत्काल दिव्यांग को छात्रवृति दी जायेगी और उसके इलाज कराने भी प्रयास किया जायेगा।
दिव्यांगों की मदद के लिये सरकार द्वारा कई सुविधायें दी जाती है लेकिन इस दिव्यांग को भी किसी तारणहार की जरुरत है। हालांकि डीसी संदीप सिंह ने भरपूर मदद का आश्वासन दिया है और शायद अब इस दिव्यांग की जिंदगी में एक नयी रौशनी आ सकेगी।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *