प्रोफेशनल तरीके से चलाया जाय लघु -कटीर उद्यम विकास बोर्ड-सीएम

जिला, प्रखण्ड एवं ग्राम स्तर के 291 समन्वयक का चयन
रांची,3अगस्त। घुवर दास ने कहा कि मेरी सरकार का लक्ष्य है गरीबों के जीवन में बदलाव लाना। हमारा झारखंड भी विकसित राज्यों की गिनती में आये। इसके लिए सभी को मिलकर प्रयास करना होगा। असली झारखंड गांव में बसता है। जब तक हम ग्रामीणों को रोजगार से जोड़कर सक्षम नहीं बनायेंगे, झारखंड भी सक्षम नहीं बनेगा। गांव के लोगों के हाथ में हुनर देकर उन्हें रोजगार से जोड़ने के लिए ही मुख्यमंत्री लघु व कुटीर उद्यम विकास बोर्ड का गठन किया गया है। यह बोर्ड गांव स्तर पर लोगों को रोजगार से जोड़ेगा। श्री दास आज मुख्यमंत्री लघु व कुटीर उद्यम विकास बोर्ड के अंर्तगत चयन पत्र वितरण के बाद लोगों को संबोधित कर रहे थे। श्री रघुवर दास ने कहा कि बोर्ड में 24 डिस्ट्रीक को-ऑर्डिनेटर के  अंतर्गत 260 ब्लॉक को-ऑर्डिनेटर रहेंगे। ब्लॉक को-ऑर्डिनेटर विलेज को-ऑर्डिनेटर का चयन करेंगे। इसमें महिलाओं को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। इसके बाद गांव की भौगोलिक स्थिति, वहां होनेवाले वनोपज, विशेषता और वहां की जरूरत का सर्वे किया जायेगा। इसी आधार पर गांव में लघु व कुटीर उद्योग लगाये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि बोर्ड को पूरी तरह से प्रोफेशनल तरीके से चलाना है। डिस्ट्रीक को-ऑर्डिनेटर ब्लॉक को-ऑर्डिनेटर के काम की निगरानी रखेंगे। ब्लॉक को-ऑर्डिनेटर गांव स्तर पर होनेवाले काम की निगरानी रखेंगे। ब्लॉक को-ऑर्डिनेटर पंचायत स्वयंसेवकों का सहयोग भी करेंगे। हर तीन माह में काम की समीक्षा होगी। जिला-जिला और ब्लॉक-ब्लॉक के बीच प्रतियोगिता रहेगी। सबसे अच्छा काम करनेवाले जिला, ब्लॉक और विलेज को-ऑर्डिनेटर को पुरस्कृत किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार का मूलमंत्र सबका साथ सबका विकास है। इसी को ध्यान में रखते हुए जमीनी स्तर पर सभी के हित में काम करें। धर्म, जाति आदि के नाम पर भेदभाव नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि खनिज, वन प्राकृतिक एवं मानव सम्पदा से भरपूर होने के बाद भी झारखण्ड में गरीबी है। इस गरीबी को हमें दूर करना है।   कर्यक्रम में 291 अभ्यार्थियों को चयन पत्र सौंपा गया। इस दौरान मुख्य सचिव श्रीमती राजबाला वर्मा, अपर मुख्य सचिव श्री अमित खरे, उद्योग सचिव श्री सुनील बर्णवाल, पंचायती राज सचिव श्री विनय चौबे, बोर्ड की सी0इ0ओ श्रीमती रेणू गोपीनाथ पाणिकर, हैंडलूम-हैंडीक्राफ्ट के निदेशक श्री दीपांकर पांडा, उद्योग निदेशक श्री के0 रविकुमार, जियाडा के प्रबंध निदेशक श्री श्रीनिवासन समेत बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *