मंत्री ने कार्यपालक अभियंता को गबन करने पर दी सजा

 डिमोशन के साथ वेतन से राषि वसूली का आदेश
रांची 12 अगस्त। राज्य के जल संसाधन, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री चन्द्र प्रकाष चौधरी ने कार्यपालक अभियंता अनंत प्रसाद सिंह को डिमोषन करके सहायक अभियंता के पद पर रखने और उनके वेतन से 12 प्रतिषत की ब्याज पर 2012 से वसूली करने का फरमान सुनाया है। साथ ही यह भी सुनिष्चित करने को कहा है कि राषि की वसूली नियमित रूप से मिलने वाली वेतन से की जाय। उन्होंने यह फरमान अनंत प्रसाद सिंह द्वारा विŸाय अनियमितता करने व तय नियमों की अनदेखी करने का आरोप सामने आने पर सुनाया है। पेयजल एवं स्वच्छता विभाग अन्तर्गत लातेहार प्रमण्डल में तत्कालीन कार्यपालक अभियंता रहे और मौजूदा समय में चाईबासा में तकनीकी सलाहकार के पद पर पदस्थापित अनंत प्रसाद सिंह ने 8 लाख 84 हजार रूपये का गबन कर दिया है। यह गबन 3300 ब्रास लाईन के स्थान पर 1500 सप्लाई करके किया है । शेष 1800 ब्रास लाईन की राषि का गबन कर लिया। 1800 ब्रांस लाईन का मूल्य 8 लाख 84 हजार रूपये आंका गया है। कार्यपालक अभियंता यहीं नहीं रूके पांच से दस दिनों के अंतराल पर मेसर्स षिवा कंस्ट्रक्षन एवं मेसर्स झारखण्ड एग्रो इंडस्ट्रीज के बीच टेंडर मैनेज करने का काम भी करते रहे। इस क्रम में तय प्रावधानों का भी उल्लंघन किया। साथ ही अपने स्तर से 11 टेंडर का निष्पादन भी कर दिया। इस काम में भी उनके द्वारा 16 से 20 लाख का गबन किया गया। मंत्री श्री चौधरी ने स्पष्ट किया है कि वैसे अधिकारी या अभियंता जो विŸाय अनियमितता व नियमों की अनदेखी कर यह सोच कर कर रहें हैं कि विभाग की नजर उनपर नहीं है तो, यह उनकी भूल है। उन्होंने कहा कि यह संज्ञान में आया है कि कुछ कार्यपालक अभियंता अपने चहेते संवेदक एवं एजेंसी को टेन्डर दिलाने के प्रयास में जुटे रहते हैं और इस फिराक में भी रहते हैं, कि संवेदक एवं एजेन्सी को जयादा से ज्यादा मुनाफा दे और मुनाफे में अपनी हिस्सेदारी हो। ऐसे अभियंताओं को चिन्हित किया जा रहा है और आने वाले दिन में ऐसे अभियंताओें पर कार्रवाई होगी।
Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *