विकास के लिए भू-राजस्व विभाग ने तैयार किया प्लेटफार्म-अमर बाउरी

अवैध भूमि निबंधन कानूनी प्रक्रिया के तहत निरस्त होगी
रांची,12सितंबर। झारखंड के भूमि राजस्व एवं निबंधन मंत्री अमर बाउरी ने कहा है कि 1000 दिनों के कार्यकाल में विकास योजनाओं को धरातल पर उतारने में उनके विभाग ने एक बेहता प्लेटफार्म तैयार करने का काम किया। उन्होंने कहा कि सभी तरह की विकास योजनाओं और आधारभूत संरचनाओं के लिए जमीन की आवश्यकता होती है, इसलिए भूमि एवं राजस्व विभाग ने अन्य विभागों से समन्वय स्थापित कर तरक्की और विकास के लिए मुख्य आधार को तैयार करने में महत्वपूर्ण विभाग निभायी। अमर बाउरी आज रांची के सूचना भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।
भूमि एवं राजस्व मंत्री ने बताया कि आगामी 22 सितंबर को राज्य सरकार 1000 दिनों का कार्यकाल पूरा करने जा रही है, इस दौरान विभाग ने कई उपलब्धियां हासिल की है, जिसके तहत 264 में से 262 अंचलों के डिजिटीलाईजेशन का काम पूरा हो चुका है, जबकि चंदनक्यारी और चास अंचल कार्यालय के डिजिटीलाईजेशन का काम शुरु हो गया है और जल्द ही काम पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया बिहार से नक्शा प्राप्त होने के बाद उसे संरक्षित करने का काम किया जा रहा है, इसके लिए छपाई मशीन की भी स्थापना की जा रही है। अमर बाउरी ने बताया कि कई विभागों को आधारभूत संरचना उपलब्ध कराने के लिए निःशुल्क भूमि हस्तांतरण भी किया गया है,जबकि मोमेंटम झारखंड से पूरे देश-दुनिया में झारखंड की बेहतर छवि बनी है, इसके लिए जमीन उपलब्ध कराने का काम किया जा रहा है। खास महल की जमीन लीज नवीकरण के संबंध में पूछे गये एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने बताया कि लीज नवीकरण के शर्त्तां का सरलीकरण किया गया है। अब उत्तराधिकारी को भी लीज दिया जा सकेगा और लीज नवीकरण का अधिकार उपायुक्त और प्रमंडलीय आयुक्त को सौंप दिया गया है,पूर्व में सभी मुख्यालय रांची आते थे। उन्होंने बताया कि सीएनटी-एसपीटी एक्ट के उल्लंघन मामले में भी नियमानुसार कार्रवाई की जा रही है।
इस मौके पर विभाग के प्रधान सचिव के.के. सोन ने बताया कि अवैध भूमि हस्तांतरण और निबंधन के मामले पर अंकुश लगाने के लिए प्री-रजिस्ट्रेशन आवेदन की व्यवस्था की गयी है और अनुमति मिलने पर रजिस्ट्रेशन होगा, वहीं अवैध भूमि निबंधन को भी कानूनी प्रक्रिया के तहत निरस्त किया जाएगा। पूर्व में यह व्यवस्था कि शिकायत मिलने के बाद ही कार्रवाई होती थी,लेकिन अब यदि उपायुक्त के संज्ञान में यह बात आती है, तो स्वतः कार्रवाई की जा सकती है।
विदेशी व देशी पर्यटकों की संख्या में बढ़ोत्तरी
पर्यटन मंत्री अमर बाउरी ने बताया कि 1000 दिनों के कार्यकाल में झारखंड आने वाले विदेशी पर्यटकों की संख्या बढ़कर 90 हजार से बढ़कर 1.79लाख सलाना हो गयी है,जबकि देशी पर्यटकों की संख्या 2.23 करोड़ स बढ़कर 3.13करोड़ हो गयी है। उन्होंने बताया कि पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए बैद्य्ननाथधाम महोत्सव, रजरप्पा महोत्सव, मलूटी, मां भद्रकाली कई प्रसिद्ध मंदिरों के लिए अलग-अलग महोत्सवों का आयोजन किया जा रहा है। इसके अलावा रांची-जमशेदपुर-सरायकेला को टूरिस्ट सर्किट के रुप में विकास की योजना है, उसी तरह से बौद्ध सर्किट और गिरिडीह के पारसनाथ-मधुवन समेत अन्य प्रसिद्ध तीर्थस्थलों को जोड़ कर टूरिस्ट सर्किट बनाने की योजना है। इसके अलावा डोम्बारीबुरु और सुतियाम्बे को पर्यटन स्थल के रुप में विकसित करने और नेटरहाट समेत अन्य प्राकृतिक स्थलों के विकास के लिए भी प्रयास किये जा रहे है।
खेल महाकुंभ का किया जाएगा आयोजन
कला-संस्कृति मंत्री अमर बाउरी ने बताया कि राज्य सरकार खेलों के विकास के लिए सीसीएल के साथ मिलकर 2024 के ओलंपिक की तैयारी में जुटी है। जबकि खेल महोत्सव की तैयारी को भी अंतिम रुप दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि रांची के बड़ा तालाब में स्वामी विवेकानंद की बड़ी प्रतिमा स्थापित करने और पुल निर्माण का कार्य भी आगामी 12 जनवरी के पहले हो जाएगा।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *