85 हजार रुपये के साथ दो बीडीओ घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार

 

चार हजार रुपये घूस लेते पंचायत सेवक गिरफ्तार

घूसखोर लेखापाल 2500 रुपये के साथ गिरफ्ता

रांची19सितंबर। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ;एसीबीद्ध धनबाद की टीम ने आज बड़ी कार्रवाई करते हुए दो प्रखंड विकास पदाधिकारियों को रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। एसीबी की टीम ने धनबाद जिले के बाघमारा के प्रखंड विकास पदाधिकारी और बोकारो जिले के नावाडीह के प्रखंड विकास पदाधिकारी को 85 हजार रुपये रिश्वत के साथ गिरफ्तार किया।
एसीबी की टीम ने बाघमारा बीडीओ गिरिजनन्द किस्कू को राजगंज निवासी ठेकेदार राजेश्वर प्रसाद मुंशी से 50 हजार रिश्वत लेते बाघमारा स्थित उनके आवास से गिरफ्तार किये गए । बताया जाता है कि ठेकेदार का ढा लाख रुपये बकाया था । बकाया भुगतान को लेकर वह 3 महीने से कार्यालय का चक्कर काट रहा था। इसके एवज में बीडीओ द्वारा एक लाख रुपए की रिश्वत की मांग की गयी थी। जिसके बाद ठेकेदार ने इसकी शिकायत धनबाद एसीबी से कर दिया । एसीबी की विशेष टीम ने बड़े ही नाटकीय ढंग से बीडीओ साहब को उनके ही आवास से ठेकेदार से 50 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया । जिसके बाद विशेष टीम उन्हें धनबाद स्थित एसीबी कार्यालय ले आ ।
वही धनबाद से सटे बोकारो जिले के नावाडीह प्रखंड के बीडीओ को भी आज एसीबी के विशेष टीम के हत्थे चढ़ गए । नावाडीह बीडीओ अरुण उराव अपने ही सहायक कर्मचारी से 40 हजार रुपए की रिश्वत मांग रहे थे । दरअसल सहायक कर्मचारी संतोष कुमार अपने छुट्टी के रुपए निकलवाने के लिए काफी जद्दोजहद कर रहे थेए लेकिन बीडीओ बिना 40 हजार के घूस लिये उनकी छुट्टी का रकम पास करने को तैयार ही नहीं थे। जिसके बाद संतोष ने भी एसीबी टीम का सहारा लिया और आज उनके ही आवास पर उन्हें मांग की ग 40 हजार में से 35 हजार रुपए देने पहुँच गए । जैसे ही बीडीओ ने रिश्वत की राशि को अपनी मुट्ठी में कैद कियाए पहले से घात लगाए एसीबी के विशेष टीम ने उन्हें भी घूस के 35 हजार के रकम के साथ रंगे हाथ धर दबोचा । एसीबी के विशेष टीम ने इन्हें भी धनबाद के एसीबी कार्यालय में पूछ ताछ के लिए रखा है ।

। दुमका एंटी करप्शन ब्यूरो ने देवघर से एक घूसखोर लेखापाल को गिरफ्तार किया है। देवघर जिले के देवीपुर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थापित प्रखंड लेखापाल राजीव कुमार सिंह को दुमका एसीबी टीम ने उस वक्त रंगे हाथ गिरफ्तार किया जब वह एक सहिया से 2500 रुपये घूस ले रहा था। घूसखोर राजीव सिंह को एसीबी की टीम ने गिरफ्तार कर दुमका लाया और यही से उसे जेल भेज दिया गया। एसीबी ने यह कार्रवा देवीपुर के हुसैनाबाद की ही रहनेवाली सहिया अनीता देवी की शिकायत पर की। शिकायतकर्ता अनीता देवी के मुताबिक लेखापाल राजीव सिंह आये दिन किसी भी काम के एवज में घूस के तौर पर रुपयों की मांग करता था। कुछ दिन पहले ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण समिति के मद में आये 10000 रुपये ;दस हजार रुपयेद्ध करके हर सहिया को दिया जाना था। जब अनीता देवी ने अपने आंगनबाड़ी केंद्र के लिए 10000 रुपये की जारी करने की मांग की तो लेखापाल राजीव सिंह ने अनीता देवी से 2500 रुपये बतौर घूस देने की मांग की। घूस नहीं देने पर लेखापाल राजीव सिंह ने अनीता देवी को सहिया के पद से हटा देने की धमकी देता था। अनीता देवी ने इसकी शिकायत दुमका स्थित एसीबी के कार्यालय में की और आज एसीबी की टीम ने घूसखोर लेखापाल को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया।

हजारीबाग की एसीबी की टीम ने बरही के करसो पंचायत सेवक को चार हजार रुपये घूस लेते गिरफ्तार किया है। पंचायत सेवक गोकुल मेहता पंचायत भवन हैंडओवर लेने के लिए संवेदक मुकेश कुमार से चार हजार रुपये घूस ले रहे थे। हालाँकि इसके लिए पंचायत सेवक आठ हजार रुपये से कम लेने को तैयार नहीं थे। मंगलवार को प्रथम किस्त चार हजार रुपये घूस लेते पंचायत सेवक गोकुल मेहता को एसीबी की टीम ने बरही स्थित उनके आवास से गिरफ्तार कर लिया। अभियान का नेतृत्व एसीबी के डीएसपी प्राण रंजन ने किया। जांच अधिकारी आ बी ओझा ने कहा कि कानूनी कार्रवा कर आरोपी कर्मी को न्यायालय के सुपुर्द किया जाएगा। बताया गया है कि 15 लाख रुपये से अधिक की लागत से पंचायत भवन की मरम्मति करवाया गया था। काम पूरा हो जाने के बाद पंचायत भवन को हैंडओवर लेने के लिए घूस मांगा जा रहा था।

 

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *