स्टैंडअप इंडिया के तहत एक भी एससी युवा को ऋण नहीं मिला

रांची,12अक्टूबर। प्रदेश कांग्रेस कमिटी के महासचिव सूर्यकांत शुक्ला ने बताया कि राज्य में “स्टैन्डअप इंडिया“ के तहत झारखण्ड ग्रामीण बैंक ने राज्य के एक भी अनुसूचित जाति वर्ग के युवा को व्यापार (बिजिनेस) करने के लिए ऋण नहीं दिया।
सूर्यकांत शुक्ला ने कहा कि पूरे देश में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की बहुप्रचारित “स्टैन्डअप इंडिया“ स्कीम पूरी तरह से फेल साबित हो चुकी है। याद रहे कि 05 अप्रैल 2016 को प्रधानमंत्री ने नोयडा में स्कीम लांच करते हुए कहा था कि सभी बैंको की प्रत्येक शाखा “स्टैन्डअप इंडिया“ के तहत युवाओं को बिजिनेस सेटअफ करने हेतु लोन देगी, जिसमें एक आदिवासी या दलित होगा और दूसरा महिला सामान्य होगी। प्रधानमंत्री की“स्टैन्डअप इंडिया“ ने देश की युवाओं को पूरी तरह से निराश किया है।
प्रदेश कांग्रेस कमिटी के महासचिव आलोक कुमार दूबे ने “स्टैन्डअप इंडिया“ को महज एक नारा बताया और कहा कि भाजपा सरकार को नारा गढ़ने में महारत हासिल है। पूरे देश में मात्र 6 प्रतिशत बैंक की शाखाओं ने ही आदिवासी, हरिजन युवाओं को व्यापार करने के लिए “स्टैन्डअप इंडिया“ के तहत लोन दिया। देश की 16 पब्लिक सेक्टर कामर्शियल बैंक की शाखाओं ने आदिवासी कैटेगरी में एक भी लोन स्वीकृत नहीं किया।
आदिवासी-हरिजन कैटेगरी में लोन देने में बैंक की शाखाओं ने पूरे देश में उदासीन रही। महिला सामान्य कैटेगरी में भी बैंको का परफारमेन्स निराशाजनक रहा। मात्र 25 प्रतिशत बैंकी की शाखाओं ने महिलाओं को व्यापार करने के लिए “स्टैन्डअप इंडिया“ स्कीम की दिशा-निर्देशों का पालन किया।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *