210 में से 95एमओयू धरातल पर उतरेंःसीएम

रांची,30अक्टूबर। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी वर्ष 16-17फरवरी को रांची में मोमेंटम झारखंड का आयोजन किया गया, जिसमें 210कंपनियों के साथ एमओयू किया गया और कुछ ही महीने में 95एमओयू धरातल पर उतर आये है, जबकि जल्द ही तीसरे ग्राउंड सेरेमनी(शिलान्यास समारोह) के माध्यम से अन्य कई एमओयू पर धरातल पर उतरने शुरु हो जाएंगे। उन्होंने बताया कि झारखंड देश में खनिज संपदा से परिपूर्ण उड़ीसा, छत्तीसगढ़ और पिÜचम बंगाल के केंद्र में है, इसलिए झारखंड माइनिंग शो का मुख्य उद्देश्य है कि मैनुफैक्चरिंग उद्य्नोग के लिए उपकरण बनाने वाली बड़ी कंपनियां राज्य में अपने संयंत्रों की स्थापना करें, साथ ही अगले कुछ महीनों में नीलामी होने वाले विभिन्न खनन ब्लॉकों में निवेश करें और लाभ कमाएं, साथ ही राज्य के विकास में अपनी अहम भूमिका निभाएं। उन्होंने बताया कि झारखंड में देश का 40 प्रतिशत खनिज संपदा रहने के बावजूद अब तक न तो इसकी ब्रांडिंग की गयी और न ही इसकी मा ार्े टिंग की गयी, पहली बार मोमेंटम झारखंड के माध्यम से राज्य की खनिज संपदा की मा ार्े टिंग और ब्रांडिंग संभव हो पायी है। मुख्यमंत्री ने बताया कि पिछले दिनों उनके नेतृत्व में राज्य से एक शिष्टमंडल टोक्यो गया, तो वहां के लोग यह समझते थे कि टाटा कंपनी झारखंड के जमशेदुपर नहीं, बल्कि पिÜचम बंगाल में है। उन्होंने बताया कि झारखंड माइनिंग शो के माध्यम से भी यहां की खनिज संपदा की मा ार्े टिंग और ब्रांडिंग हो सकेगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि फरवरी में मोमेंटम झारखंड के दौरान 1600मेगावाट पावर प्लांट को लेकर एमओयू हुआ और कुछ ही महीने में गोड्डा में इसके लिए भूमि अधिग्रहण का काम पूरा हो चुका है। उन्होंने यह भी कुछ लोग मा ार्े ट में अफवाह फैलाने की कोशिश में रहते है, कि झारखंड में जमीन की समस्या है, लेकिन ऐसी कोई बात नहीं है, अडाणी पावर के लिए जमीन अधिग्रहण का काम पूरा हो चुका है और इस परियोजना के शिलान्यास के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री को पत्र लिखा गया है, उनसे समय मिलते ही शिलान्यास के साथ ही निर्माण कार्य तेजी से शुरु हो जाएगा और झारखंड से उत्पादित बिजली सिर्फ झारखंड ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया को रौशन करने का काम करेगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का यह संकल्प है कि 2022 तक न्यू इंडिया में कोई गरीब न रहे। मुख्यमंत्री ने निवेशकों को भरोसा दिलाया कि यहां निवेश करने वालों की पूंजी पूरी तरह से सुरक्षित रहेगी और निवेशकों को पूर्ण सुरक्षा उपलब्ध करायी जाएगी। उन्होंने बताया कि झारखंड में नक्सली घटनाओं में 50 फीसदी तक कमी आयी है और कानून को हाथ में लेने वालों से पुलिस सख्ती से निपटेगी।
उदघाटन समारोह में स्वागत भाषण उद्य्नोग सचिव सुनील वर्णवाल ने दिया, जबकि सीआईआई के को-चेयरमैन एसके आचार्य, एचईसी के सीएमडी अभिजीत घोष, भेल के सीएमडी डीके होदा, कोल इंडिया के चेयरमैन गोपाल सिंह, अडाणी सामूह के एमडी राजेश अडाणी, मुख्य सचिव राजबाला वर्मा और कोयला मंत्रालय के सचिव सुशील कुमार ने भी संबोधित किया।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *