कुपोषण से मुक्ति में सीएसआर कोष से मदद ली जाएगीःसीएम

मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना का शुभारंभ  राष्ट्रपति 15 नवम्बर को करेंगे
रांची,9नवंबर। मुख्यमंत्री  रघुवर दास ने कहा कि विकास की आत्मा सामाजिक विकास है। जब तक सामाजिक विकास नहीं होगा, विकास की परिकल्पना पूर्ण नहीं होगी। झारखंड में कुपोषण बड़ी समस्या है।  मातृत्व मृत्युदर और शिशु मृत्यु दर में कमी लानी है। 2022 तक झारखंड को कुपोषण मुक्त बनाना है। इसमें कारपोरेट कंपनियों के साथ ही सामाजिक संगठनों का भी सहयोग जरुरी है। कंपनियों के कारपोरेट सोशल रिस्पॉसिब्लिटी (सीएसआर) फंड से भी इस काम में मदद ली जायेगी। वे आज रांची स्थित  झारखंड मंत्रालय में आयोजित इंडस्ट्री चौंपियन फॉर एस0डी0जी पुरस्कार 2017 कार्यक्रम में बोल रहे थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में अशिक्षा और जागरुकता की कमी के कारण समुचित पोषण नहीं मिल पाता है। इससे शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है। सरकार जागरुकता कार्यक्रम में भी सामाजिक संगठनों की मदद लेगी। 2022 तक राज्य से कुपोषण समाप्त करना है। इसके लिए हर साल 4-5 जिलों को चुना जायेगा, जिन्हे कुपोषण से मुक्त कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य को प्राथमिकता देते हुए राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना शुरु की है। इसमें राज्य की 80 प्रतिशत आबादी से बिना कोई प्रीमियम लिए उन्हें इससे जोड़ा जायेगा। इसके बाद गरीब से गरीब व्यक्ति को भी इलाज के लिए दो लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध होगा। इसकी शुरुआत 15 नवंबर को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा किया जायेगा। इसके अलावा भी सरकार असाध्य रोगों के लिए गरीबों को 3-4 लाख रुपये की सहायता उपलब्ध करा रही है।
Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *