शिक्षा समेत अन्य क्षेत्रों में 50 हजार नियुक्ति जल्द- मुख्यमंत्री

70 साल में 82 और 3 साल में 53 कॉलेज, आजादी के बाद 8 यूनिवर्सिटी और 3 साल में 4 यूनिवर्सिटी
धनबाद,14नवंबर। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि स्वर्गीय बिनोद बिहारी महतो जी ने शिक्षित समाज की परिकल्पना की थी। इस कार्य हेतु उन्होंने संघर्ष किया और लोगों को जागरुक भी। आज उनके सपनों को मूर्त रुप देने का प्रयास राज्य सरकार कर रही है। कोयलांचल यूनिवर्सिटी की मांग को लेकर लंबे समय तक संघर्ष और राजनीति होती रही। लेकिन राज्य सरकार ने समाज के लिए शिक्षा का अलख जगाने वाले, अलग राज्य की मांग के लिए संघर्ष करने वाले विनोद बिहारी महतो जी को आज अपनी सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित कर उनके नाम से यूनिवर्सिटी निर्माण हेतु शिलान्यास ने किया। यूनिवर्सिटी का लाभ लाखों युवाओं को मिलेगा। धनबाद और बोकारो के युवा इस यूनिवर्सिटी से लाभान्वित होंगे। श्री दास सोमवार को धनबाद स्थित बिनोद बिहारी महतो विश्वविद्य्नालय परिसर में आयोजित शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान लोगों को संबोधित कर रहे थे। श्री दास ने कहा कि 2 माह के अंदर यूनिवर्सिटी क्रियाशील होगा और 2020 तक यूनिवर्सिटी बनकर तैयार होगा।
श्री दास ने कहा कि उच्च शिक्षा के क्षेत्र में राज्य सरकार लगातार कार्य कर रही है। आजादी के बाद से राज्य में मात्र 82 कॉलेज और 8 यूनिवर्सिटी की स्थापना की ग । लेकिन 1000 दिन के कार्यकाल में 53 कॉलेज और चार यूनिवर्सिटी के निर्माण कार्य एवं उनमें अध्ययन अध्यापन का कार्य प्रारंभ हो चुका है। शिक्षा को बढ़ावा देने में राज्य सरकार की क्रियाशीलता का यह परिचायक है, जिसका आकलन राज्य की जनता कर सकती है। श्री दास ने बताया कि झारखण्ड शिक्षा का केंद्र बने इसके लिए उच्च शिक्षा के लिए अलग से सचिव की नियुक्ति की ग । 40 साल में झारखंड में सिर्फ तीन मेडिकल कॉलेज थे और 1000 दिन के कार्यकाल में तीन नए मेडिकल कॉलेज निर्माण हेतु आधारशिला रखी ग । 2 माह के अंदर तीन अन्य मेडिकल कॉलेज स्थापना हेतु आधारशिला राज्य सरकार रखेगी।
मुख्यमंत्री ने बताया कि उच्च शिक्षा और समय के अनुरुप ज्ञान से राज्य के युवा आच्छादित व लाभान्वित हों इसके लिए फरवरी 2018 में शिक्षा को केंद्रित करते हुए अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस का आयोजन होगा। जहां देश विदेशों से शिक्षाविद आकर राज्य के युवाओं को शिक्षा के प्रति जागरुक करेंगे। राज्य सरकार भी नये स्थापित हो रहे यूनिवर्सिटी में तकनीकी शिक्षा, व्यवसायिक शिक्षा रोजगारपरक शिक्षा पर जोर दे रही है। इस निमित्त अलग से नए पाठ्यक्रम को लागू किया जा रहा है। ताकि युवा अपनी सोच को नया आयाम दें। क्योंकि युवा शक्ति राष्ट्र की पूंजी है। राष्ट्र निर्माण में मानव संसाधन का बड़ा महत्व है इसका महत्व पूंजी से भी अधिक है। श्रीदास ने कहा कि राज्य सरकार ने स्थानीय नीति परिभाषित कर विभिन्न क्षेत्रों में 1000 दिन के कार्यकाल में करीब एक लाख नियुक्तियां विभिन्न क्षेत्रों में कर चुकी है। जल्द 50 हजार नियुक्तियां शिक्षा समेत अन्य क्षेत्रों में होगा ताकि यहां के निवासियों व छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा व सेवाएं प्रदान की जा सके।
मुख्यमंत्री ने कहा कि धनबाद स्थिति बीआ टी सिंदरी अपने गौरव को पुनः प्राप्त कर सके, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान स्थापित कर सकें। इस हेतु राज्य सरकार 175 करोड़ की लागत से यूनिवर्सिटी के आधारभूत संरचना के निर्माण का कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री ने उपस्थित लोगों से अनुरोध किया कि पाटलिपुत्र मेडिकल कॉलेज का नाम सरकार बदलना चाहती है, इसके लिए जन सहयोग की जरुरत है। मेडिकल कॉलेज का नाम झारखंड से जुड़ा होना चाहिए। लोग 181 में फोन कर नामकरण हेतु सुझाव प्रेषित कर सकते हैं। जिस पर राज्य सरकार विचार कर जल्द मेडिकल कॉलेज का नाम परिवर्तित करेगी।
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि धनबाद टॉप 10 शहरों में आए इसके लिए सभी की सहभागिता जरुरी है स्वच्छता को लेकर आम लोग लोगों को जागरुक होना होगा। राज्य सरकार यातायात में हो रही परेशानी से निजात दिलाने हेतु फ्ला ओवर निर्माण की प्रक्रिया धनबाद में प्रारंभ करेगी। राजधानी में दो फ्ला ओवर का काम जल्द शुरु होने जा रहा है। धनबाद के खदानों में एकत्रित पानी को सरकार सी एस आर फंड के जरिए पाइप लाइन के माध्यम से लोगों के घरों तक फिल्टर कर आपूर्ति करने का कार्य करेगी। इसके लिए कोल इंडिया से बात हो चुकी है। जल्द इस योजना पर कार्य प्रारंभ होगा। श्री दास ने बताया कि विस्थापित बसाये गये परिवारों की चिंता राज्य सरकार को है। दिसंबर माह तक बसाये गये विस्थापित परिवारों को सरकारी पट्टा दिया जाएगा। ताकि वह भी गर्व से कह सकेंगे वे विस्थापित नहीं, झारखंड के निवासी हैं।
रघुवर दास ने कहा कि राजसत्ता पर जनसत्ता का जोर होना चाहिए। समाज को शासन के प्रति जागरुक रहना चाहिए। लोगों को अपनी सोच बदलनी होगी, क्योंकि सकारात्मक सोच, सकारात्मक कार्य से रचनात्मक सोच व रचनात्मक कार्य की अभिवृद्धि होती है। राजनीति को राज्य हित से ऊपर जाना चाहिए। गरीबों के जेहन में नकारात्मक सोच और उनकी मानसिकता को दिग्भ्रमित करने का प्रयास नहीं करना चाहिए। इससे सिर्फ राज्य और यहां हो रहे विकास कार्यों को नुकसान होता है। श्री दास ने कहा कि विकास हो, महिलाएं अधिकार संपन्न बने, उत्पादकता अधिक हो, सभी शिक्षित हों, यह हर किसी की सोच होनी चाहिए। तभी हम विकास के नए आयाम स्थापित कर सकेंगे। श्री दास ने कहा कि राज्य में कानून का शाशन चलेगा। क्रिमिनल को किसी हाल में बक्शा नहीं जायेगा। अपराध मुक्त, उग्रवाद मुक्त झारखण्ड का निर्माण होगा।
शिक्षा मंत्री नीरा यादव ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री के नेतृत्व में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने का कार्य हो रहा है। इसका तुलनात्मक अध्ययन किया जा सकता है। पूर्व व वर्तमान की स्थिति कैसी है, यह साफ दिख रहा है। उच्च शिक्षा के लिए यहां के युवा बाहर जाते हैं लेकिन सरकार का प्रयास है कि शिक्षा के लिए युवाओं का पलायन रुके। पूरी प्रतिबद्धता और जिम्मेदारी के साथ राज्य सरकार कार्य कर रही है। सुदूर क्षेत्र से पढ़ा करने आने वाली छात्राओं के लिए राज्य सरकार जल्द बस सेवा प्रारंभ करेगी। वर्तमान में छात्र छात्रों को कौशल विकास के माध्यम से प्रशिक्षण दिया जा रहा है ताकि वे रोजगार व स्वयंरोजगार से जुड़ सकें।
स्वर्गीय विनोद बिहारी महतो के पुत्र राजकिशोर महतो ने कहा कि उनके पिता बिनोद बिहारी महतो झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के संस्थापक सदस्य रहे थे लेकिन राज्य सरकार ने निष्पक्ष भाव से कार्य करते हुए उनके पिता के नाम से विश्वविद्य्नालय का नामांकरण किया। किसी भी सरकार ने इस ओर ध्यान नहीं दिया जबकि इसकी मांग वर्षों से होती रही। आज क्षेत्र की मांग रघुवर दास जी की सरकार ने पूरा कर दिया।
कार्यक्रम में धनबाद सांसद पशुपतिनाथ सिंह, सांसद रविंद्र कुमार पांडे, बाघमारा विधायक ढुल्लू महतो, निरसा विधायक श्री अरुप चटर्जी, सिंदरी विधायक फूलचंद मंडल, धनबाद विधायक राज सिन्हा, विकास आयुक्त अमित खरे मुख्यमंत्री के सचिव सुनील कुमार वर्णवाल उच्च शिक्षा सचिव श्री अजय कुमार सिंह व अन्य उपस्थित थे।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *