सभी सरकारी टेंडरों को ऑनलाइन करने के सुझाव पर होगा अमलःसीएम

पाकुड़ में बजट पूर्व संगोष्ठी
रांची,4दिसंबर। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बताया कि बजट पूर्व संगोष्ठी में सभी सरकारी टेंडरों को ऑनलाइन करने का सुझाव आया है, इस पर अमल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस बात से लोगों में खुशी है कि झारखंड का बजट अब बंद कमरों में राजधानी रांची में नहीं बनता है, बल्कि लोगों के बीच आकर उनके सुझाव को लेकर बन रहा है। उन्होंने वादा किया कि सरकार आमजनों के सुझाव पर अमल करेगी, लोगों का भरोसा से बढ़कर कुछ नहीं है। मुख्यमंत्री आज पाकुड़ जिला मुख्यालय स्थित कृषि उत्पादन बाजार समिति परिसर में आयोजित संताल परगना प्रमंडल बजट पूर्व संगोष्ठी को संबोधित कर रहे थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बजट में लोगों को क्या चाहिए, उनसे बेहतर कोई नहीं बता सकता है। उन्होंने कहा कि पैसा जनता का है, इसलिए जनता यह बताने का हक भी जनता को ही है कि वह बजट में कैसे और कहां खर्च हो। इसी उद्देश्य के साथ आज पाकुड़ में लोगों से बजट पूर्व संगोष्ठी का आयोजन किया गया है।
पाकुड़ में आयोजित बजट संगोष्ठी में कृषि मंत्री रणधीर सिंह, समाज कल्याण मंत्री लुईस मरांडी, भाजपा विधायक ए.मंडल और मुख्य सचिव राजबाला वर्मा के अलावा प्रमंडलीय आयुक्त और संताल परगना प्रमंडल के सभी जिलों के उपायुक्त और पुलिस अधीक्षकों के अलावा बड़ी संख्या में बुद्धिजीवी, किसान, महिलाएं, मजदूर और छात्र-युवाओं को आमंत्रित किया गया है।

विकास स्थायी हो व बदलाव लाने में सार्थक हो-सीएस
इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए मुख्य सचिव  राजबाला वर्मा ने कहा कि राज्य का बजट राज्य सरकार का अर्थ संकल्प एवं वित्तीय संकल्प है। जन कल्याण और विकास का कार्य इसी बजट से किया जाता है। सरकार हर बजट से पूर्व लोगों से राय लेकर ही बजट बनाती है जिससे यह साफ जाहिर होता है कि सरकार आम लोगों के विकास के लिए कृत संकल्पित है। उन्होंने कहा कि बजट हर वर्ग को प्रभावित करता है, साथ ही साथ आधारभूत संरचना पर भी प्रभाव डालता है। राज्य के विकास को बजट एक नई दिशा देता है। उन्होंने कहा कि बजट जमीनी सच्चाई और आवश्यकताओं पर आधारित हो तभी राज्य को विकास का एक नया आयाम मिल सकता है। विकास स्थाई हो तथा बदलाव लाने में सार्थक हो। उन्होंने कहा कि यहां बजट पूर्व संगोष्ठी से आपके जो भी बहुमूल्य सुझाव प्राप्त हुए हैं वह बजट बनाने के लिए कारगर साबित होगें। इन सभी सुझावों को अगले वित्तीय वर्ष में सम्मिलित किया जाएगा। बजट पूरे राज्य को विकास की एक नई दिशा देगा। समावेशी विकास करने में, गरीबी दूर करने मैं, कृषकों की आय बढ़ाने में ,आधारभूत संरचना को मजबूत करने में, बस इससे तेजी लायी जा सकेगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास जी का आपके बीच आना विकास की एक नई पहल है।
तीन सालों में तेजी से विकास हुआ-अमित खरे
इस अवसर पर विषय प्रवेश कराते हुए विकास आयुक्त सह अपर मुख्य सचिव अमित खरे ने कहा कि पिछले 3 सालों में झारखंड में काफी तेजी से आर्थिक विकास हुआ है। गुजरात के बाद सबसे तेजी से विकास करने वाला झारखंड दूसरा राज्य है। इस विकास को समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने के लिए राज्य सरकार कृतसंकल्पित है। पिछड़े जिलों पर सरकार का विशेष ध्यान है ताकि सभी जिले आगे बढ़े। राज्य विकास की एक नई ऊंचाई पर पहुँचे। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के बजट पुर्व संगोष्ठी का अपना एक अलग महत्व है। बजट बनाते समय सरकार हर वर्ग के लोगों के साथ मिलकर बजट बनाना चाहती है। पाकुड़ और साहिबगंज राज्य का सबसे अधिक पिछड़ा जिला है। सरकार विभिन्न सरकारी योजनाओं के माध्यम से इनके विकास के लिए प्रतिबद्ध है। मुख्यमंत्री   की इच्छा बजट के साथ क्रियान्वन पर भी जोर रहता है आपका हर एक सुझाव राज्य के विकास को एक नए आयाम देने के लिए महत्वपूर्ण है। पूरी सरकार आपके द्वार पर आई है ताकि आपकी समस्याओं को सुनकर जल्द से जल्द समाधान कर सके।इस अवसर पर वित्त सह सिंचाई विभाग के अपर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह ने कहा कि सिचाई के क्षेत्र में संथाल परगना काफी पिछड़ा रहा है लेकिन सरकार द्वारा इसके समाधान हेतु लगातार कार्य किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि  अजय बराज योजना कंप्लीट कर ली गई है, पुनासी योजना पर भी कार्य लगातार चल रहा है। 2 सालों  में पुनासी योजना को भी पूरा कर जनता को सौंप दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि बुढ़ई जलाशय योजना पर भी कार्य जल्द ही शुरू किया जाएगा। संथाल परगना के विभिन्न जिलों में सिंचाई के क्षेत्र में बहुत जल्द प्रगति होने वाली है। जामताड़ा के आसपास बराज का निर्माण कराया जाएगा ताकि स्थानीय किसानों को पेयजल तथा सिंचाई की व्यवस्था आसानी से मिल सके।
हर समस्या का समाधान जल्द से जल्द होगा-सुधीर त्रिपाठी
इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी ने कहा कि आपकी हर समस्याओं का समाधान जल्द से जल्द किया जाएगा। पूरे राज्य में 108 एंबुलेंस सेवा बहुत जल्द शुरु की जा रही है। आबादी के आधार पर हर जिले में एंबुलेंस दिया जाएगा। यह एंबुलेंस 24 घंटे अपने कर्तव्य पर रहेगी। 108 पर कॉल करने के 4 मिनट के अंदर एंबुलेंस आपके पास होगा। इस एंबुलेंस में स्वास्थ्य विभाग की पूरी टीम उपस्थित रहेगी। उन्होंने कहा कि बहुत जल्द मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत गरीबों के बीच स्वास्थ्य कार्ड का वितरण किया जाएगा जो क्रेडिट कार्ड की तरह कार्य करेगी।
2018 तक झारखं को स्वच्छ बनाने का संकल्प-एपी सिंह
इस अवसर पर प्रधान सचिव एपी सिंह ने कहा कि 2018 तक झारखंड को स्वच्छ झारखंड बनाने का संकल्प सरकार ने लिया है। मुख्यमंत्री जी के सपने को साकार करने के लिए विभाग द्वारा निरंतर कार्य किए जा रहे हैं। पाइप के माध्यम से शुद्ध पेयजल पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने सभी उपायुक्तों को कहा कि अगर पाइपलाइन पहुंचने में कहीं परेशानी आ रही है तो डीपीआर बनाकर उसे विभाग को भेज दिया जाए। शुद्ध पेयजल वहां तक पहुंचाने का कार्य सरकार करेगी। उन्होंने कहा कि लिट्टीपाड़ा में  218 करोड़ की योजना का कार्य चल रहा है और बहुत जल्द इस योजना को पूरा कर लिया जाएगा जिससे लोगों को शुद्ध पेयजल मिल पाएगा।
प्रत्येक गांव में 3 से 5 तालाबों का जीर्णाद्धार-अविनाश कुमार
इस अवसर पर सचिव अविनाश कुमार ने कहा कि प्रत्येक गांव में 3 से 5 तालाबों का जीर्णोद्धार किया जाएगा। जोहार योजना के तहत संथाल परगना के 2 जिले पाकुड़ तथा दुमका के 18 प्रखंड लिए जाएंगे। जिसमें कृषकों को प्रशिक्षण देने का कार्य किया जाएगा। उन्हें बेहतर राशि दिला कर उनकी आय को दोगुना करने का कार्य सरकार करेगी।
संताल में उद्योग धंधेलगेंगे-सुनील 
इस अवसर पर सचिव सुनील वर्णवाल ने कहा कि संताल परगना के विभिन्न क्षेत्रों में शीघ्र ही उद्योग लगाने का कार्य किया जाएगा। हर जिले में इंडस्ट्रियल एरिया को डेवलप किया जाएगा। कोकून उत्पादन में पूरे देश में झारखंड अपनी एक अलग पहचान रखता है। झारखंड के दुमका में सबसे अधिक तसर कोकून का उत्पादन किया जाता है। इन्हें ध्यान में रखते हुए दुमका में बहुत जल्द तसर कोकून के प्रशिक्षण केंद्र खोले जाएंगे। इसके साथ ही बांस के ऊपर आधारित उद्योगों को भी प्रोत्साहित किया जा रहा है। संताल परगना के क्षेत्र में उद्योग लगाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने राज्य सरकार ने बालू उत्खनन के लिए भी एक नई नीति बनाई है जिसे मार्च से लागू किया जाएगा। यह बदलाव एक बड़ा बदलाव के रूप में सरकार करने जा रही है लेकिन अवैध खनन पर पूरी तरह से सरकार रोक लगाएगी। सारे परिवर्तन संताल परगना की तस्वीर बदलेगा। उन्होंने कहा कि देवघर दुमका में रेशम उद्योग खोले जाएंगे जिससे यह क्षेत्र झारखंड का महत्वपूर्ण औद्योगिक क्षेत्र बनेगा।
तीन वर्ष में 18हजार शिक्षकों की नियुक्ति-आराधना
इस अवसर पर सचिव   आराधना पटनायक ने कहा कि 18000 शिक्षकों की नियुक्ति पिछले 3 साल में की जा चुकी है तथा अप्रैल तक सारे हाई स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति हर हाल में की जाएगी। उन्होंने कहा कि 280 प्लस टू शिक्षको की नियुक्ति के लिए विज्ञापन निकाल दिया गया है और यह चयन अप्रैल तक पूरा कर लिया जाएगा। सभी स्कूलों में लेबोरेटरी तथा लाइब्रेरी की व्यवस्था जल्द से जल्द की जाएगी। उन्होंने कहा कि बिजली ना होने की वजह से लेबोरेटरी तथा लाइब्रेरी की व्यवस्था नहीं की गई थी अधिकांश है विद्यालयों में बिजली की व्यवस्था सुनिश्चित कर ली गई है। उन्होंने कहा कि कंप्यूटर शिक्षा को सभी विद्यालयों में अनिवार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले 3 वर्षों में सरकार द्वारा सभी विद्यालयों में एक बड़ा बदलाव किया गया है। सभी विद्यालयों में बेंच डेस्क पूरा करने का कार्य लगभग लगभग पूरा किया जा चुका है।
2018 तक घर-घर बिजली-राहुल
इस अवसर पर राहुल पुरवार ने कहा कि पिछले 3 वर्षों में सरकार द्वारा घर-घर बिजली पहुंचाने का कार्य युद्धस्तर पर किया जा रहा है झारखंड के सभी घरों में सरकार द्वारा बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है 2018 तक सभी घरों में बिजली हर हाल में पहुंचेगी। इस अवसर पर संथाल परगना के सभी 6 जिलों के उपायुक्त, आरक्षी अधीक्षक के साथ जनप्रतिनिधि, विभिन्न क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करते गणमान्य लोग, उपस्थित थे।
Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *