मुख्यमंत्री की सदस्यता समाप्त करने का आग्रह

झामुमो विधायक नलिन सोरेन ने स्पीकर को लिखा पत्र
रांची,19दिसंबर। झारखंड मुक्ति मोर्चा विधायक और विपक्ष के मुख्य सचेतक नलिन सोरेन ने विधानसभा अध्यक्ष को पत्र लिखकर मुख्यमंत्री रघुवर दास पर सदन में अमर्यादित व्यवहार का आरोप लगाते हुए उनकी विधानसभा सदस्यता रद्द करने की मांग की है।
नलिन सोरेन ने बताया कि झारखंड विधानसभा लोकतांत्रिक व्यवस्था में राज्य का सर्वाच्च मंच है,जहां पर घटित होने वाली घटनाएं, वाद-विवाद, लिये जाने वाले निर्णय इस राज्य के बारे में न सिर्फ बहुत कुछ कहती है, बल्कि राज्य के भविष्य की दिशा एवं दशा भी तय करती है, यह जनमानस की अपेक्षा तथा संवैधानिक व्यवस्था है कि लोकसभा और विधानसभा में आचरण एवं व्यवहार के उच्चतम मापदंडों के साथ की कार्रवाई संचालित हो। इन मापदंडों को सुनिÜचत करने की महती जिम्मेवारी लोकसभा और विधानसभा के अध्यक्षों के कंधों पर है। इसे लेकर संविधान की धारा 194(3) के अंतर्गत विधानसभा अध्यक्ष को विधानसभा की कार्रवाई मर्यादित एवं उपयोगी ढंग से संचालित करने के लिए अपार शक्तियां प्रदान की गयी है। उन्होंने बताया कि 15 दिसंबर को मुख्यमंत्री द्वारा सदन में किये गये आचरण से पूरे देश में झारखंड शर्मसार हुआ है, सदन की मर्यादा तार-तार हुई है, सदन नेता, मुख्यमंत्री ने विपक्षी सदस्यों के विरुद्ध भरे सदन में अपशब्द का प्रयोग किया और भारत के संसदीय इतिहास में सदन नेता द्वारा सदन में गाली-गलौत किये जाने की संभवतः यह पहली घटना है।
नलिन सोरेन ने कहा कि आज पूरे देश उनकी ओर देख रहा है, सदन की मर्यादा की रक्षा के लिए उनके द्वारा आवश्यक कार्रवाई किये जाने की अपेक्षा झारखंड का जनमानस कर रहा है।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *