अपहृत छात्र का 13 दिनों बाद भी कोई सुराग नहीं मिला

रांची,3जनवरी। खूंटी के पत्थर व्यवसाई ज्योतिष कश्यप उर्फ़ रूप्पु के 15 वर्षीय अपहृत पुत्र व छात्र पियूष कुमार का अपहरण के 13 दिन बाद भी पुलिस को कोई सुराग नहीं लग पाई है ।पुलिस ने अब तक एक दर्जन से अधिक रिश्तेदारों को शक के आधार पर हिरासत में लेकर पूछताछ कर चुकी है, बावजूद खूंटी पुलिस ने अपहृत छात्र का कोई सुराग नहीं लगा पाई है ।वहीँ अपहृत छात्र अपहरण मामला ने नया मोड़ ले लिया है ।
व्यवसायी के पुत्र की मौसी किरण देवी ने अपने पति (छात्र का मौसा) दिनेश साहू के खिलाफ छ महीने पूर्व खूंटी न्यायलय में दहेज़ उत्पीडन का मामला दर्ज कराया था।मामला दर्ज किये जाने से नाराज आरोपी दिनेश ने कई बार परिवावालों को जान से मारने की धमकी देने लगा ।साथ ही कोर्ट द्वारा नोटिस करने के बाद भी कोर्ट समय पर नहीं पहुंचा और 22 दिसंबर की शाम दिनदहाड़े साहू तालाब के पास से पियूष का अपरहण कर लिया । छात्र पियूष के मौसा आरोपी दिनेश को ये शक था कि आरोपी की पत्नी किरण देवी ने व्यवसायी ज्योतिष कश्यप के कहने पर कोर्ट में दहेज़ उत्पीडन का मामला दर्ज कराया है , इसी शक के आधार पर दिनेश ने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर छात्र पियूष का अपहरण कर लिया हालाँकि मामले के 13 दिन बाद परिवारवालों ने खुद ही कोर्ट से मामले को वापस करने का फैसला लेते हुए केस वापस ले लिया ।परिवारवालों को ये उम्मीद है कि अपहृत छात्र पियूष को सकुशल भेज देगा हालाँकि अभी तक ऐसा नहीं हुआ है ।
गौरतलब है कि 22 दिसंबर की शाम शहर के साहू तालाब मोड़ से दिनदहाड़े सफ़ेद कार में आये लोगों ने छात्र का अगवा कर लिया है। घटना के 13 दिन बाद दहेज़ उत्पीडन से जुड़े पुराने विवाद को वापस ले लिया इससे ये स्पष्ट होता है कि छात्र पियूष का अपहरण आपसी रंजिस का नतोजा है जबकि खूंटी पुलिस ने भी अब तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं किया है लेकिन ये जरुर है कि अपहरण से जुड़े मामले को लेकर रांची प्रमंडल के डीआईजी अमोल वेनुकांत के निर्देश पर 1 जनवरी को एसआईटी (स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम) का गठन किया है और इसमें दो टीमे बनाई गई है एक टीम में खूंटी मुख्यालय डीएसपी विकास आनंद लागुरी व डीएसपी रणवीर सिंह के अलावा कई इंस्पेक्टर व दरोगा को रखा गया है ।वहीँ दूसरी टीम में रांची,लोहरदगा व सिमडेगा के अधिकारी शामिल है इसके अलावा टेक्नीकल टीम के अधिकारी भी इस टीम में रखा गया है बावजूद छात्र का कोई सुराग नहीं ।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *