सीएस-डीजीपी को हटाने की मांग पर विपक्ष अड़ा

 विस में दूसरे दिन भी जमकर हंगामा
रांची,18जनवरी। झारखंड विधानसभा के बजट सत्र के दूसरे दिन गुरुवार को भी विपक्षी सदस्यों ने सदन में जमकर हंगामा किया, जिसके कारण प्रश्नोत्तरकाल की कार्यवाही पूरी तरह से बाधित रही ।
सभा की कार्यवाही शुरु होने पर झारखंड विकास मोर्चा के प्रदीप यादव ने भ्रष्टाचार और पद का दुरुपयोग करने की आरोपी मुख्य सचिव राजबाला वर्मा और फर्जी मुठभेड़ कांड के आरोपी पुलिस महानिदेशक डी0के0पांडेय को पद से मुक्त करते हुए उनके कार्यकाल की जांच सीबीआई से कराने की मांग की। उन्होंने कहा कि जब कार्यपालिका के शीर्षस्थ पदाधिकारियों पर ही गंभीर आरोप है और वे पद पर बने रहेंगे, तो इससे भ्रष्टाचार और पद का दुरुपयोग करने वाले अन्य कनीय अधिकारियों का मनोबल भी बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि जब गंगोत्री ही गंदी होगी, तो गंगा को निर्मल एवं स्वच्छ रखने की परिकल्पना नहीं की जा सकती है।

नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने कहा कि सदन में इस गंभीर संवेदनशील मुद्दे पर चर्चा होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि पूर्व में भी सदन में चर्चा होने के बाद तत्कालीन मुख्य सचिव ए.के. सिंह को पद से हटना पड़ा था, विधायिका के इस सर्वाच्च मंदिर में चर्चा के बाद भी कार्रवाई होती है, तो इससे गलत संदेश जाएगा।

संसदीय कार्यमंत्री सरयू राय ,सत्तारुढ़ दल के मुख्य सचेतक राधाकृष्ण किशोर, भाजपा के मनीष जायसवाल और अनंत ओझा समेत अन्य सदस्यों ने विपक्षी सदस्यों द्वारा सदन को बाधित किये जाने पर नाराजगी जतायी। वहीं विधानसभा अध्यक्ष ने इस मुद्दे को लेकर विपक्ष की ओर से दिये गये कार्यस्थगन प्रस्ताव को आमान्य कर दिया गया और प्रश्नकाल शुरु करने की कोशिश की। लेकिन विपक्षी सदस्य इस मुद्दे पर कार्रवाई की मांग पर अड़े रहे। विपक्षी सदस्यों ने चुनाव आयोग द्वारा एडीजी अनुराग गुप्ता के खिलाफ कार्रवाई के दिये गये आदेश पर भी अब तक कोई कार्रवाई नहीं होने पर नाराजगी जतायी। विपक्षी सदस्य नारेबाजी करते हुए वेल में भी आ गये और करीब 45मिनट तक सदन की कार्यवाही बाधित रहने के बाद विधानसभा अध्यक्ष ने सभा की कार्यवाही को भोजनावकाश दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दिया।
भोजनावकाश के बाद दोपहर दो बजे से सभा की कार्यवाही शुरु होने पर एक बार फिर से विपक्षी सदस्य मुख्य सचिव राजबाला वर्मा , पुलिस महानिदेशक डी.के.पांडेय और एडीजी अनुराग गुप्ता को पद से हटाने की मांग को लेकर हंगामा करने लगे। कई विपक्षी सदस्य अपनी बातों को कहते हुए आसन के निकट आ गये और नारेबाजी करने लगे। इस बीच विधानसभा अध्यक्ष के निर्देश पर राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा शुरु हुई और सत्तापक्ष के कई सदस्यों ने हंगामे के बीच में ही अपनी बातों को रखा। जबकि कांग्रेस व झामुमो के विधायक वाकआउट कर बाहर निकल गये। धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा कल भी जारी रहेगी।
Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *