एचईसी को लेकर भाजपा सांसद गोलबंद हुए

प्रधानमंत्री व केंद्रीय भारी उद्य्नोग मंत्री को पत्र लिखकर विरोध जताया
रांची,8फरवरी। केंद्र सरकार ने रांची स्थित भारी अभियंत्रण निगम (एचईसी) के निजीकरण का संकेत दिया है, इसके खिलाफ झारखंड से निर्वाचित सत्तारुढ़ भाजपा के ही सांसद गोलबंद हो रहे है, वहीं विपक्षी दलों ने भी केंद्र सरकार के इस संकेत पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।
रांची के सांसद रामटहल चौधरी के के अलावा सांसद बीडी राम, रवींद्र कुमार राय, सुनील सिंह, लक्ष्मण गिलुवा, पीएन सिंह, रवींद्र कुमार पांडेय और राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार ने केंद्रीय भारी उद्य्नोग एवं लोक उपक्रम मंत्री अनंत गंगाराम गीते और प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर अपना विरोध दर्ज कराया है।
भाजपा सांसदों ने प्रधानमंत्री व केंद्रीय मंत्री को लिखे पत्र में बताया कि एचईसी एशिया के सबसे बड़े इंजीनियरिंग प्रतिष्ठानों में एक है और इस कारखाना के लिए क्षेत्र के लोगों ने हजारों एकड़ जमीन दी थी और उन्हें उम्मीद थी कि इस कंपनी में उन्हें रोजगार मिलेगा और क्षेत्र विकास होगा, लोगों के जीवन स्तर में बदलाव आयेगा। भाजपा सांसदों ने कहा कि यदि इस संस्थान को बंद किया गया या इसका निजीकरण किया गया, तो इससे सरकार की भी भारी बदनामी होगी। पार्टी सांसदों ने कहा है कि एचईसी को बंद करने की नहीं, इसके आधुनिकीकरण की जरुरत है, ताकि इसका उत्पादन बढ़े , इसके विस्तार की जरुरत है, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को रोजगार मिले।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *