एचईसी के पुनर्रुद्धार को लेकर भाजपा सांसद जल्द प्रधानमंत्री से मिलेंगे

रांची,13फरवरी। झारखंड ही नहीं,बल्कि पूरे देश के लिए शान के रुप पहचान रखने वाले भारी अभियंत्रण निगम (एचईसी) के निजीकरण के विरोध में जहां एचईसी में कार्यरत सभी श्रमिक संगठन एकजुट होकर संघर्ष करने का ऐलान किया है, वहीं सत्तारुढ़ भाजपा के सांसदों ने भी एचईसी के पुनर्रुद्धार के मुद्दे को लेकर जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने का निर्णय लिया है।
रांची के भाजपा सांसद रामटहल चौधरी के लिए एचईसी का मुद्दा राजनीतिक रुप से अहम बन गया है, वहीं यह विषय सत्तारुढ़ भाजपा सांसदों के लिए काफी महत्वपूर्ण है,क्योंकि यदि नीति आयोग की सिफारिश को आधार मान कर एचईसी का निजीकरण किया जाता है, तो इससे भाजपा को आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव में राजनीतिक रुप से भी नुकसान उठाना पड़ता सकता है, यही कारण है कि जैसे ही केंद्रीय उद्य्नोग मंत्री से सांसद रामटहल चौधरी को एचईसी के निजीकरण का संकेत मिला, उन्होंने तुरंत पार्टी के अन्य सांसदों से मिलकर एक ज्ञापन प्रधानमंत्री कार्यालय को सौंपा। इन भाजपा सांसदों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विदेश यात्रा के पहले उनसे मुलाकात के लिए समय भी मांगा था, लेकिन व्यस्तता के कारण भाजपा सांसदों की उनसे बात नहीं हो सकी।
इधर, एचईसी का निजीकरण रोकने के लिए कंपनी की छह यूनियन एक मंच पर आ गयी है। इसका नाम एचईसी बचाओ मंच दिया गया। इस मंच की कल 14फरवरी को एचईसी मुख्यालय में पहली सभा होगी। मंच में हटिया प्रोजेक्ट वर्कर्स यूनियन, हटिया कामगार यूनियन, हटिया मजदूर यूनियन, हटिया लोक मंच, एचईसी श्रमिक कर्मचारी यूनियन और जनता मजदूर यूनियन शामिल है।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *