पीडीएस में डीबीटी के खिलाफ सड़क पर उतरें ग्रामीण

नगड़ी प्रखंड के ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री आवास का किया घेराव
रांची,26फरवरी।झारखंड सरकार ने अक्टूबर 2017 में रांची जिले के नगड़ी प्रखंड में मॉडल प्रोजेक्ट के रुप में जन वितरण प्रणाली (पीडीएस) में डी.बी.टी. योजना लागू की और यहां के बाद पूरे राज्य में इसे लागू करने की योजना बनायी गयी, लेकिन नगड़ी प्रखंड में ही इसका जोरदार विरोध शुरु हो गया है। इस फैसले के खिलाफ राशन बचाओ मंच के बैनर तले आज झामुमो, कांग्रेस, झाविमो, भाकपा और भाकपा-माले के कार्यकर्त्ताओं के साथ हजारों की संख्या में ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री आवास का घेराव किया।
नगड़ी प्रखंड के विभिन्न पंचायतों व गांवों से आये ग्रामीण कटहल मोड़ में जमा हुए और कटहल मोड़ से पैदल मुख्यमंत्री आवास का घेराव किया। प्रदर्शनकारी ग्रामीणों का कहना है कि पीडीएस में डीबीटी के तहत सस्ते चावल की जगह लोगों के बैंक में पैसा भेजा रहा है, जिससे वे राशन दुकान से 32 रुपये प्रति किलो की दर से चावल खरीद सकते है, लेकिन चार महीने बाद पता चला रहा है कि डीबीटी से गांव-गांव में लोगों को परेशानी हो रही है, कभी सब्सिडी राशिन के लिए बैंक के चक्कर काट रहे, तो कभी प्रज्ञा केंद और कभी राशन दुकान का लोग चक्कर लगा रहे है। जिसके कारण वृद्ध, किसानों व मजदूरों पर इस प्रणाली का बुरा प्रभाव पड़ा है।
प्रदर्शनकारी नेताओं ने कहा कि इन सब परेशानियों के बावजूद सरकार पूरे झारखंड में इसे लागू करने की योजना बना रही है, यह लोगों के भोजन के अधिकार को समाप्त करने की साजिश है, इसे पूरे झारखंड में लागू किया जाएगा, तो भूखमरी के हालात बढ़ जाएंगे। प्रदर्शन में कांग्रेस नेता अजय नाथ शाहदेव के अलावा विभिन्न दलों के नेता-कार्यकर्त्ता शामिल थे।इस प्रदर्शन को भोजन का अधिकार अभियान, आदिवासी मूलवासी अस्तित्व रक्षा मंच, ऑल इंडिया पीपुल्स फोरम झारखंड, यूनाइटेड मिली फोरम, ऑल इंडिया किसान सभा, झारखंड जन संस्कृति मंच, एकता परिषद, झारखंड नागरिक मंच समेत कई अन्य संगठनों ने भी समर्थन दिया।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *