मुख्य सचिव की झाप्रसे के अधिकारियों ने आंदोलन स्थगित किया

रांची,7मार्च। मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी अपील के बाद झारखण्ड प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों ने अपने आंदोलन को स्थगित करने का निर्णय लिया है।
मुख्य सचिव की अपील के बाद झारखंड प्रशासनिक सेवा संघ के अधिकारियों और राज्य कार्यकारिणी की आपात बैठक रांची में हुई, जिसके बाद छात्र हित में ध्यान में रखते हुए 8 से 12 मार्च तक के तृतीय चरण के आंदोलन को स्थगित करने का निर्णय लिया गया। हालांकि 14 मार्च को संघ की राज्य कार्यकारिणी की पुनः बैठक होगी, जिसमें आगे के कार्यक्रम की रुपरेखा तय की जाएगी। इस बैठक में जिला इकाई के अध्यक्ष व सचिव या उनके प्रतिनिधि को भी आमंत्रित किया गया है। गौरतब है कि झाप्रसे संघ के सदस्य ईचागढ़ विधायक की गिरफ्तारी मसेत अन्य सभी 14 सूत्री मांगों को लेकर 5 मार्च से चरणबद्ध आंदोलन किया जा रहा है।
इससे पहले मुख्य सचिव ने झाप्रसे के अधिकारियों से अनुरोध किया है कि वे तत्काल अपना आंदोलन स्थगित करने का निर्णय लें एवं मैट्रिक-इंटर परीक्षा के शांतिपूर्ण संचालन में अपना योगदान सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के संज्ञान में है कि झारखंड प्रशासनिक सेवा संघ द्वारा माननीय विधायक, इचागढ़ की गिरफ्तारी सहित अन्य सभी 14 मांगों के क्रम में दिनांक 5 मार्च 2018 से चरणबद्ध आंदोलन किया जा रहा है। आपके आंदोलन से राज्य में होने वाले 8 मार्च 2018 से मैट्रिक-इंटर परीक्षा में प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की संभावना है जिसके कारण लाखों होनहार बच्चों का भविष्य प्रभावित होगा। मुख्य सचिव ने कहा कि झारखंड प्रशासनिक सेवा संघ के विभिन्न मांगों के परिप्रेक्ष्य में राज्य सरकार द्वारा एक सप्ताह के अंदर गंभीरतापूर्वक विचार करने का निर्णय लिया गया है। अतः लोकहित एवं जनहित में हड़ताल पर न जायें।

Please follow and like us: