देश की हालात को बदलने के लिए युवाओं को आगे आना होगा-वरुण गांधी

रांची,17मई।भाजपा सांसद वरुण गांधी कहा कि देश की हालात को बदलने के लिए युवाओं को आगे आना होगा। उन्होंने कहा कि युवाओं की ओर से स्वयं के प्रयास से किए गये कार्य देश के क स्थानो में सामाजिक बदलाव के सूचक के रुप में स्थापित हो चुका है। वरुण गांधी गुरुवार को लायंस क्लब ऑफ सेंट्रल की ओर से आयोजित युवा संवाद में देश की हालत और युवाओं की दशा पर आयोजित संगोष्ठी को संबोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि 1925 में एक प्रतिशत लोगों के लोगों के पास देश की 25प्रतिशत संपत्ति थी। वर्तमान समय में देश के 10प्रतिशत से कम लोगों के पास देश का कुल 90 संपत्ति चली ग है। ऐसे में सबो को समान अवसर कहां से मिल सकता है।
देश के युवाओं के पास क्षमता रहने के वावजूद भी सही अवसर नही मिल पा रहा है। वरुण गांधी ने दीपचन्द शर्मा का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होने नौकरी से अवकाश प्राप्त करने के बाद पांच लाख रुपया सरकार को भेजा था और कहा था कि जो देश में सबसे करीब 5 लोग है उनके बीच यह राशि बाट दी जाए। लेकिन सरकार के पास ऐसा को आंकडा नही है कह कर उन्हे राशि और पत्र वापस कर दिया गया।
एक ओर लोग पानी के बिना मुश्किल से जी रहे है वही देश में 400 परिवार की कालोनी में सभी परिवार के स्वींमिंग पूल बनाए जा रहे है। वरुण गांधी ने कहा मैं एक राजनीतिक पृष्ठभूमि वाले परिवार से हूं जिस कारण 29 साल में सांसद चुना गया। ऐसे युवा सांसद एक दो को छोड़कर सभी की पारिवारिक पृष्ठभूमि राजनीति से जुड़ी हु है। देश के युवा के सामने ऐसे अवसर लाने होंगे कि वह सांसद विधायक और जनप्रतिनिधि बन सके।
वरुण गांधी ने अपने संबोधन में सरकार और सत्ताधारी पार्टी की बात तो नही की लेकिन देश के हालात और युवाओं के साथ सिमटते हुए अवसर और शिक्षा व्यवस्था पर चोट करने से नहीं चूके।
युवा संवाद के इस कार्यक्रम में अमिताभ चौधरी, महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष डॉ महुआ माजी, प्रेस क्लब के महासचिव शम्भू चौधरी, बार काँसिल के महासचिव संजय विद्रोही, रांची विश्वविद्य्नालय की प्रति कुलपति डॉ कामिनी कुमार, सरला बिरला यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार रंगीत गाड़ोदिया,आदिवासी जन परिसद के कार्यकारी अध्यक्ष प्रेमशाही मुंडा, संजय झा मौजूद थे।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *