मॉब लिंचिंग मामले में मृतकों के परिजन से मिलें कांग्रेस नेता

रांची,14जून। झारखंड के गोड्डा जिले में मॉब लिंचिंग मामले में मृतकों के परिजनों से गुरुवार को कांग्रेस नेताओं के एक शिष्टमंडल ने गांव जाकर मुलाकात की और न्याय दिलाने का भरोसा दिलाया।
गोड्डा मॉब लिंचिंग मामले को लेकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा गठित जांच समिति के सदस्य कृष्णानंद झा और विधायक इरफान अंसारी मृतकों के पैतृक गांव पोड़ैयाहाट के बांझी गांव पहुंचे। इस मौके पर उन्होंने पुलिस अधिकारियों से भी बात की और कानून को हाथ में लेने वालों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की। कांग्रेस नेताओं की ओर से मृतक के आश्रितों को मुआवजा और सरकारी नौकरी भी देने की मांग की गयी। साथ ही पार्टी की ओर से भी हरसंभव सहायता का भरोसा दिलाया गया। पार्टी की ओर से गठित यह कमेटी मामले की छानबीन के बाद प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार को रिपोर्ट सौंपेगी, जिसके बाद पार्टी इस मुद्दे को लेकर आगे की रणनीति तय करेगी।
गौरतलब है कि बुधवार सुबह गोड्डा जिले के देवडाड़ थाना इलाके में भैंस चोरी के आरोप में भीड़ ने दो लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मंगलवार देर बनकट्टी गांव से पांच लोग 13 भैंस चोरी करके ले जा रहे थे , लेकिन ग्रामीणों की नींद खुल गई। ग्रामीणों के द्वारा शोर मचाये जाने पर आस-पास के गांवों के लोग भी इकट्ठा हुए और चोरों का पीछा करने लगे। इसी क्रम में बनकट्टी गांव के समीप ग्रामीणों ने दो लोगों को पकड़ लिए और इतनी बेरहमी से दोनों की पिटाई की गयी कि दोनों की मौके पर ही मौत हो गई । मृतकों की पहचान पोड़ैयाहाट के तालझारी गांव निवासी मुर्तजा अंसारी और सिराबुद्दीन अंसारी के रुप में की गई। गोड्डा के पुलिस अधीक्षक राजीव कुमार सिंह ने बताया कि मवेशी चोरी को लेकर घटना को अंजाम देने की बात सामने आयी है, कानून को हाथ में लेने वालों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस मामले में चार लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है और अन्य लोगों की पहचान की कोशिश की जा रही है।
मॉब लिचिंग की कई घटनाएं
झारखंड में हाल के एक-दो वर्षां में मॉब लिंचिंग की कई घटनाएं हो चुकी है। रामगढ़ जिले में 29 जून 2017 को प्रतिबंधित मांस ले जाने के आरोप में भीड़ ने अलीमुद्दीन नामक एक व्यक्ति की पीट-पीट कर हत्या कर दी गयी है। इस मामले में रामगढ़ जिले की एक फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 11 आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनायी है। बोकारो जिले में भी 4 अप्रैल 2017 को चंद्रपुरा थाना क्षेत्र के नर्रा गांव में बच्चा चोरी के आरोप में शमसुद्दीन अंसारी की पीट-पीट कर हत्या कर दी गयी। इस मामले में तेनुघाट अनुमंडल की निचली अदालत ने सभी 10 आरोपियों को उम्र कैद की सजा सुनायी। इसके अलावा 18 मई 2017 को सरायकेला-खरसावां जिले के राजनगर इलाके में बच्चा चोरी के आरोप में भीड़ ने तीन लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी गयी। उसी रात जमशेदपुर के बागबेड़ा थाना क्षेत्र के नागाडीह गांव में भी बच्चा चोरी के आरोप में तीन युवकों की भीड़ ने पीट-पीट कर मार डाला, इस दौरान एक महिला की भी पिटाई की गयी, जिसकी मौत एक महीने बाद इलाज के क्रम में हो गयी।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *