छह विधायकों के दल-बदल मामले में 11 करोड़ का लेन-देन हुआ-बाबूलाल

 तत्कालीन भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की ओर से राष्ट्रीय अध्यक्ष को लिखा पत्र मीडिया के समक्ष जारी किया
रांची,6जुलाई। झारखंड विकास मोर्चा-प्रजातांत्रिक के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने शुक्रवार को एक बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि उनकी पार्टी के छह विधायकों को भाजपा में शामिल कराने के लिए 11 करोड़ रुपये दिये गये।
बाबूलाल मरांडी ने आज शाम राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को रिश्वत के रूप में दिये गये धनराशि का पत्र सौंपा। यह पत्र भाजपा के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रवींद्र कुमार राय की ओर से पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को लिखा गया है,जिसमें किस विधायक को कितनी राशि दी गयी है, उसका जिक्र है। राज्यपाल से मिलने के बाद बाबूलाल मरांडी ने अपने आवास पर पत्रकारों से बातचीत में कहा कि झाविमो के छह विधायक रणधीर सिंह, अमर कुमार बाउरी, गणेश गंझू, जानकी प्रसाद यादव, आलोक चौरसिया और नवीन जायसवाल भाजपा में शामिल करने के लिए न सिर्फ पद का ऑफर दिया गया, बल्कि मोटी रकम भी दी गयी।
उन्होंने बताया कि झाविमो के छह विधायकों के दल-बदल मामले के मुख्य सूत्रधार मुख्यमंत्री रघुवर दास खुद है।  उन्होंने बताया कि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष द्वारा लिखे गये पत्र में बताया गया है कि  झाविमो विधायक गणेश गंझू को पार्टी पदाधिकारी राकेश प्रसाद की निगरानी में दो करोड़ रुपये सांसद सुनील सिंह द्वारा दिया गया, जबकि रणधीर सिंह को प्रदेश महामंत्री दीपक प्रकाश की निगरानी में प्रदेश कोषाध्यक्ष महेश पोद्दार (अब राज्यसभा सांसद) द्वारा दो करोड़, विधायक नवीन जायसवाल को प्रदेश भाजपा पदाधिकारी प्रदीप कुमार वर्मा की निगरानी में नगर विकास मंत्री सीपी सिंह, विधायक अमर कुमार को संजय सेठ (अब झारखंड राज्य खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष) की निगरानी में विधायक विरंची नारायण ने एक करोड़ रुपये, विधायक आलोक चौरिसया को भाजपा नेत्री उषा पांडेय की निगरानी में विधायक अनंत ओझा ने दो करोड़ रुपये और विधायक जानकी प्रसाद यादव को पार्टी के तत्कालीन प्रदेश संगठन महामंत्री राजेंद्र सिंह की निगरानी में खुद मुख्यमंत्री रघुवर दास ने दो करोड़ रुपये दिये।
बाबूलाल मरांडी ने बताया कि दल-बदल करने वाले सभी विधायकों को भाजपा के तत्कालीन झारखंड प्रभारी त्रिवेंद्र सिंह रावत (अब मुख्यमंत्री उत्तराखंड) के निर्देशानुसार यह राशि पहुंचायी गयी और इन विधायकों से प्राप्ति पर्ची मुख्यमंत्री रघुवर दास को सौंपा गया। उन्होंने कहा कि भाजपा में आने वाले सभी झाविमो विधायकों को शेष राशि भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने की तिथि से 36 माह के बाद मुख्यमंत्री रघुवर दास द्वारा उपलब्ध कराने की जिम्मेवारी ली गयी। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने  भाजपा में शामिल होने वाले सभी छह विधायकों के स्थायित्व की जिम्मेवारी खुद ली और इससे राष्ट्रीय अध्यक्ष को अवगत कराया।
राज्यपाल को सौंपे गये ज्ञापन में झाविमो प्रमुख बाबूलाल मरांडी ने पार्टी के छह विधायकों को दल-बदल करवाकर भाजपा में शामिल कराने के एवज में पैसे का लेन-देन और पद का प्रलोभन देने वाले भाजपा नेताओं पर तुरंत प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की है। उन्होंने दल-बदल करने वाले सभी विधायकों की विधानसभा सदस्यता रद्द करने और इस पूरे मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है। पार्टी की ओर से इस नकद लेन-देन में शामिल  मुख्यमंत्री रघुवर दास को बर्खास्त करने की भी मांग की है।
Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *