जनता ने खदेड़ा तो भाजपा सांसद लिखने लगे स्कूल विलय पर प्रेम-पत्र – झाविमो

रांची,10अगस्त। झारखंड विकास मोर्चा के केन्द्रीय प्रवक्ता योगेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि 2019 चुनाव की सुगबुगाहट के साथ ही भाजपा यों ने फिर अपना तमाशा प्रारंभ कर दिया है। उन्होंने कहा कि स्कूल विलय के खिलाफ जब जनता नेभाजपा सांसदों को क्षेत्र से खदेड़ना शुरु किया है तब झारखंड के सभी सांसद अपनी ही सरकार को प्रेम-पत्र लिखकर अविलंब इस फैसले पर विराम लगाने की मांग करने लगे हैं।
उन्होंने कहा कि भाजपासांसदों का यह पत्र महज आ वॉश के सिवा कुछ नहीं है। इन्हें जनमुद्दों से को सरोकार नहीं है। अब झारखंड में सरकार कैसे चला जा रही है, सांसदों द्वारा अपनी ही सरकार को पत्र लिखे जाने की घटना से साफ समझा जा सकता है। सरकार अपने ही सांसद को विश्वास में नहीं ले पा रही है। विपक्ष की बात तो छोड़ ही दीजिए, उनके अपने सांसदों को सार्वजनिक रुप से पत्राचार कर अपना दर्द बयां करना पड़़ रहा है। वह भी एक-दो सांसद नहीं बल्कि राज्य के सभी सांसदों को एक साथ आकर अपनी बात कहनी पड़ रही है ताकि शायद तब कहीं उनकी बात सरकार सुन लें। संभव है कि सत्तापक्ष के विधायक भी जल्द ही ऐसी ही को नौटंकी करें। वैसे विपक्ष के अच्छे सुझाव भी तो सरकार को नागवार ही गुजरते हैं।
उन्होंने बताया कि झाविमो विधायक प्रदीप यादव ने इस मसले पर आगाह करते हुए मानसून सत्र में ही स्कूल मर्जर पर कार्यस्थगन पेश किया था जिसे अमान्य कर दिया गया। झाविमो ने पांच दिन पूर्व संपन्न अपनी कार्यसमिति की बैठक के दौरान भी स्कूल मर्जर को प्रमुख मुद्दा बनाते हुए इस पर राज्यव्यापी आंदोलन करने का निर्णय लिया है। बाबूलाल मरांडी भी एतराज जता चुके हैं कि यह ऐसी अनोखी सरकार है जो शराब की दुकान खुलवा रही है और स्कूलों को बंद करवा रही है। झाविमो इस अांदोलन को लेकर प्रारंभ से ही मुखर रही है। जब तक सरकार फैसला नहीं बदलती है, आंदोलन जारी रहेगा।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *