राफेल डील में सेना से गद्दारी व अम्बानी से वफादारी -कांग्रेस

रांची,10अगस्त। कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और विधयक सुखदेव भगत ने कहा है कि राफेल लड़ाकू विमान के खरीद में मोदी सरकार ने सेना से गद्दारी और अम्बानी से वफादारी की।
प्रदेश कांग्रेस भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सुखदेव भगत ने कहा कि देश के प्रधान सेवक आज प्रधान लेवक की भूमिका में है। उन्होंने कहा कि राफेल लड़ाकू विमान में एक लाख तीस हजार करोड़ का घोटाला का अनुमान है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सदन एवं देश को इस मुद्दे पर गुमराह किया है, जो लड़ाकू विमान यूपीए सरकार ने 526 करोड़ में खरीदने का एकरारनामा किया था वहीं विमान मोदी सरकार ने 1640 करोड़ में खरीदना तय किया है। आवश्यकता 126 विमानों की थी जबकि मोदी सरकार ने बढ़े हुए दाम पर 36 विमान खरीदना तय किया है। देखा जाए तो मोदी सरकार ने 1114 करोड़ रुपया प्रति विमान ज्यादा कीमत पर खरीद रही है, इसका कारण देश को जानना आवश्यक है।
सुखदेव भगत ने बताया कि भारत एवं फ्रांस सरकार के बीच 23 सितम्बर 2016 को इस सौदा पर एकरारनामा हुआ। पूर्व के समझौता के तहत ??भारत एरोनोटिक्स लिमिटेड“ को इसका साझेदार बनाया गया था जबकि मोदी सरकार ने समझौते के तीन माह बाद 16 दिसम्बर 2016 को गठित कम्पनी ??रिलायंस डिफेन्स“ को इसका साझेदार बनाया गया, जिसका कोई अनुभव इस क्षेत्र में नहीं है। उन्होंने कहा कि रक्षा मामलो का हवाला देकर केन्द्र सरकार इस पूरी डील को सार्वजनिक करने से मना कर रही है, जबकि उन्हें कैग और पार्लियामेंटरी स्टेरिंग कमिटी के समक्ष सारी बातों को तथ्यों के साथ रखना चाहिए।
प्रदेश अध्यक्ष कहा कि इस पूरे खेल से यह साफ हो गया है कि मोदी सरकार 2019 की चुनाव की तैयारी के लिए धन संग्रह कर रही है और देश को गुमराह कर रही है। जनता के पैसों का दुरुपयोग हम ब्रदास्त नहीं करेगें और इस घोटले का पर्दाफाश सड़क से लेकर सदन तक करेगें। इस मौके पर मीडिया प्रभारी राजेश ठाकुर, प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद, लाल किशोर नाथ शहदेव, आलोक कुमार दूबे, राजेश गुप्ता छोटु, अमूल्य नीरज खलखो भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

Please follow and like us: