कोलेबिरा विधानसभा उपचुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मी बढ़ी

रांची,12अगस्त। झारखंड में सिमडेगा जिले के कोलेबिरा विधानसभा उपचुनाव के लिए आगामी अक्टूबर-नवंबर महीने में चुनाव होने वाले उपचुनाव को राजनीतिक सरगर्मी बढ़ गयी है। अगले वर्ष होने वाले लोकसभा चुनाव के पहले राज्य में शायद यह अंतिम विधानसभा उपचुनाव होगा। इस उपचुनाव से अगले वर्ष होने वाले आम चुनाव को लेकर जनता के रूझान का भी पता चल पाएगा।
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सह सांसद लक्ष्मण गिलुवा ने कहा कि कोलेबिरा में लंबे समय से पार्टी को जीत नहीं मिली है, लेकिन इस बार भाजपा पूरी मजबूती के साथ कोलेबिरा में चुनाव लड़ेगी,ताकि यह सीट पार्टी की झोली में आ सके। उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 के चुनाव में भी भाजपा ने यहां से उम्मीदवार मैदान में उतारा था और पार्टी उम्मीदवार को व्यापक जनसमर्थन मिला था, इस बार निश्चित रूप से भाजपा को उपचुनाव में जीत मिलेगी और अभी से भाजपा कार्यकर्त्ता बूथ स्तर पर संगठन को मजबूत करने में जुट गये है।
इधर, महागठबंधन में शामिल झारखंड मुक्ति मोर्चा ने अन्य सहयोगी दलों से बिना कोई विचार-विमर्श किये ही कोलेबिरा विधानसभा उपचुनाव के लिए उम्मीदवार उतारे जाने की घोषणा कर दी। इससे महागठबंधन में शामिल कांग्रेस की ओर से आपत्ति दर्ज कराते हुए कहा गया है कि अभी उम्मीदवार उतारने को लेकर गठबंधन में कोई चर्चा नहीं हुई है। पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी ने बताया कि जिस तरह से लिट्टीपाड़ा, गोमिया और सिल्ली विधानसभा उपचुनाव में सहयोगी दलों ने आपस में मिलकर उम्मीदवार उतारा था, उसी तरह से कोलेबिरा में भी विपक्ष का साझा प्रत्याशी मैदान में उतरने को लेकर अभी विचार-विमर्श का सिलसिला जारी है। उन्होंने बताया कि कोई भी निर्णय लेने के पहले गठबंधन दलों के प्रमुख नेता आपस में विचार-विमर्श करने के बाद उम्मीदवार के नाम की घोषणा करेंगे। इससे पहले झामुमो के केंद्रीय महासचिव सह प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा था कि कोलेबिरा में झारखंड मुक्ति मोर्चा का मजबूत आधार है और यह इलाका भी जनजातीय आबादी वाला क्षेत्र है और क्षेत्र के लोगों के लिए झामुमो स्वभाविक पसंद है।
गौरतलब है कि जुलाई महीने में सिमडेगा की निचली अदालत ने एक पारा शिक्षक हत्याकांड मामले में कोलेबिरा के झारखंड पार्टी विधायक एनोस एक्का को दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनायी है। जिसके कारण उनकी विधानसभा सदस्यता समाप्त हो गयी और अब चुनाव आयोग उपचुनाव कराने की तैयारी में जुटा है।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *