डबल इंजन का फायदा झारखंड को -रघुवर दास

झारखंड की अर्थव्यवस्था और रोजगार में मील का पत्थर साबित होगी आज की बैठक

रांची,14अगस्त। केंद्रीय मंत्री वन पर्यावरण तथा जलवायु परिवर्तन डा हर्षवर्धन की अध्यक्षता में केंद्रीय कोयला मंत्री  पीयूष गोयल, और केंद्रीय इस्पात मंत्री   वीरेन्द्र सिंह के साथ झारखण्ड के मुख्यमंत्री  रघुवर दास की अहम बैठक नई दिल्ली के पर्यावरण भवन में हुई। यह बैठक कोयला मंत्रालय, वन पर्यावरण जलवायु परिवर्तन मंत्रालय तथा इस्पात मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी के साथ झारखंड सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में हुई

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा की केंद्र और राज्य में एक ही दल के सरकार अर्थात डबल इंजन डबल इंजन का फायदा झारखंड को मिल रहा है आज की बैठक मील का पत्थर साबित होगी। इससे राज्य की अर्थव्यवस्था में सकारात्मक बदलाव तथा बड़ी भारी संख्या में लोगों को रोजगार दिए जाने की संभावना बढ़ी है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि अगले सप्ताह केंद्र केंद्रीय कोयला सचिव के नेतृत्व में अधिकारियों का एक संयुक्त प्रतिनिधिमंडल धनबाद आएगा और झरिया सहित विभिन्न मसलों पर बेहतर संभावनाओं की तलाश होगी। मुख्यमंत्री ने कहा यह सरकार जनसरोकार की सरकार है इसलिए हमारी बैठक का मुख्य मुद्दा भी जनसरोकार ही है।

मुख्यमंत्री ने केंद्रीय रेल मंत्री से जमशेदपुर से अमृतसर चलने वाली ट्रेन को सप्ताह के 3 दिनों से बढ़ाकर हर रोज चलाए जाने की मांग की तथा उस ट्रेन में पैंट्री कार की सुविधा भी बढ़ाने की मांग की। उन्होंने पूर्वी उत्तर प्रदेश से देवघर तक श्रावणी मेला के लिए नई मेला ट्रेन चलाए जाने की भी मांग की।

मुख्यमंत्री   रघुवर दास ने कहा कि विभिन्न मामलों में केंद्र के साथ समन्वय सहयोग और समयबद्ध निष्पादन आधारित कार्य हो रहे हैं। इससे झारखण्ड का समय सापेक्ष विकास हो रहा है और वन पर्यावरण का संरक्षण एवं संवर्धन भी हो रहा है।

बैठक के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए केंद्रीय कोयला मंत्री  पीयूष गोयल ने कहा कि कोयला, पर्यावरण, उर्जा और इस्पात की कई परियोजनाओं पर चर्चा हुई। उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षों में झारखंड में लाखों की तादाद में रोजगार के अवसर पैदा होंगे। उन्होंने कहा कि झरिया कोल क्षेत्र के विस्थापितों की समस्याओं को सुलझाने के लिए कोयला सचिव के नेतृत्व में अगले सप्ताह एक केंद्रीय टीम झरिया जाएगी।

बैठक में केंद्रीय कोयला सचिव, केंद्रीय इस्पात सचिव, केंद्रीय पर्यावरण सचिव, वन महानिदेशक, केंद्रीय खनन सचिव तथा झारखंड की ओर से मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी,   डी के तिवारी,  इंदुशेखर चतुर्वेदी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल, झारखंड के प्रधान मुख्य वन संरक्षक संजय कुमार, खनन सचिव अबूबकर सिद्दीख पी समेत कई आलाधिकारी भी मौजूद थे।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *