देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़, लोकतंत्र की आवाज को दबाने की हो रही है कोशिश-गुलाम नबी आजाद

रांची,14सितंबर। पूर्व केंद्रीय मंत्री और राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि आज देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ हो रहा है, लोकतंत्र की आवाज को दबाने की कोशिश हो रही है। वे आज रांची स्थित कांग्रेस भवन में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।
गुलाम नबी आजाद ने कहा कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ्रांस की यात्रा पर जाने वाले थे, तो दिल्ली में पत्रकारों से बातचीत में विदेश सचिव ने कहा कि लड़ाकू विमान राफेल समझौते को लेकर फ्रांस से बातचीत का कोई एजेंडा नहीं है, लेकिन दूसरे ही दिन अचानक देश को पता चलता है, एक बड़ी आंधी आती है कि प्रधानमंत्री ने पूर्व की यूपीए सरकार के कार्यकाल में समय 126 लड़ाकू विमान खरीदने के करार को रद्द कर दिया गया है और अब 36 लड़ाकू जहाज 526 करोड़ रुपये प्रति जहाज की जगह 1670 करोड़ रुपये प्रति जहाज खरीदने जा रही है, इससे प्रति विमान 1100 करोड़ रुपये से ज्यादा अदा करने जा रही है, इससे मात्र 136 विमान खरीदने में ही 41हजार करोड़ रुपये का नुकसान देश को हुआ। उन्होंने बताया कि पूर्व में सेना की जरूरत को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय मंत्रिमंडल की रक्षा कमेटी की बैठक में 126विमान खरीदने का निर्णय लिया गया था, जिसमें से 18 जहाज फ्रांस से खरीदे जाने थे और शेष 108 के लिए विदेशी तकनीक ली जानी थी और इन विमानों को रक्षा मंत्रालय की कंपनी हिन्दुस्तान एरोनोटिकल लिमिटेड द्वारा बनाया जाना था, लेकिन राष्ट्रीय सुरक्षा की बात करने वाले प्रधानमंत्री ने न सिर्फ देश की सुरक्षा हितों की अनदेखी की, वहीं बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार से भी वंचित कर दिया।
पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पूर्व की यूपीए सरकार लड़ाकू विमान का खोखा या बिना इंजन वाला विमान नहीं लेनी जा रही थी, लेकिन अचानक 526 करोड़ से 1670करोड़ रुपये प्रति विमान की कीमत हो जाने से कई सवाल खड़ा हो रहे है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री सुबह, शाम और दोपहर में विभिन्न मुद्दों पर बोलते है, लेकिन इस मुद्दे उन्होंने चुप्पी साध रही है। उन्होंने कहा कि हर मुद्दे पर दिन-रात बोलने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संसद में सिर्फ एक ही बार राष्ट्रपति के अभिभाषण पर ही बोलते है, प्रधानमंत्री से सवाल भी पूछा जाता है, तो उनके बजाय अन्य अधीनस्त मंत्री ही जवाब देते है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में हर व्यक्ति को अपनी बात रखने का अधिकार था, लेकिन आज लोगों की आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *