जेल में मारपीट करने के मामले में पूर्व सीएम मधु कोड़ा बरी

रांची,12अक्टूबर। झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा को शुक्रवार को रांची की निचली अदालत ने जेल में मारपीट करने से जुड़े एक पुराने मामले में बड़ी राहत दी है। रांची व्यवहार न्यायालय के न्यायिक दंडाधिकारी मनीष कुमार की अदालत ने मधु कोड़ा को साक्ष्य के अभाव में बरी करने का फैसला सुनाया। आय से अधिक संपत्ति मामले में जब वर्ष 2011 में मधु कोड़ा जेल में बंद थे, तो उनपर जेल में मारपीट करने और जेल प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी करने का आरोप लगा था।
पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा अक्टूबर 2011 में आय से अधिक संपत्ति मामले में रांची के होटवार स्थित बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा में बंद थे। उस दौरान मधु कोड़ा ने जेल में मिल रहे खाने को खराब बताते हुए जेल के अंदर ही विरोध प्रदर्शन किया था। इस दौरान उन पर आरोप लगा था कि उन्होंने जेल में सुरक्षा घेरा को तोड़ा और जेल में बंद कैदियों के साथ मारपीट की, इसके साथ ही जेल प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी की। इस मामले में जेल में बंद अन्य कैदियों की ओर से रांची के सदर थाना में मामला दर्ज कराया गया था।
जेल में मारपीट के इस मामले में पांच साल में मात्र तीन गवाहों के बयान दर्ज कराये गये थे, मामले से जुड़े अन्य गवाहों को कोर्ट में हाजिर कराने के लिए न्यायिक दंडाधिकारी ने रांची के एसएसपी और अन्य पुलिस अधिकारियों को कई बार पत्र लिखा, लेकिन गवाह नहीं आये।
इस घटना को लेकर सजायाफ्ता बंदी राजू तांती ने मधु कोड़ा के साथ-साथ जेल में बंद पूर्व मंत्री एनोस एक्का, हरिनारायण राय, सावना लकड़ा और आईएएस अधिकारी प्रदीप कुमार के खिलाफ थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी थी, लेकिन मामले में जांच की कार्रवाई करते हुए सब इंस्पेक्टर कमलेश कुमार ने सिर्फ मधु कोड़ा के खिलाफ अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया था। गौरतलब है कि वर्ष 2011 में भाजपा नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के कार्यकाल में जेल में मारपीट की इस घटना में मधु कोड़ा को भी काफी चोटें आयी थी और उन्हें इलाज के लिए तब रिम्स में भर्त्ती कराया गया था।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *