मानव कल्याण ही सबसे बड़ा धर्म- रघुवर


जैन धर्मावलंबी दीक्षार्थियों का सम्मान समारोह
रांची,7दिसंबर। मुख्यमंत्री घुवर दास ने कहा कि जैन धर्म भारत का सबसे प्राचीन धर्मों में से एक है. अहिंसा जैन धर्म का मूल सिद्धांत है. भगवान महावीर द्वारा दी गई शिक्षा हमें यह सीखाती है कि मानव कल्याण ही सबसे बड़ा धर्म है. उक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कांके रोड स्थित मुख्यमंत्री आवास में आयोजित जैन धर्मावलंबी दीक्षार्थियों के सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए कहीं.
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रारंभ से ही जैन अनुयायियों का झारखंड से जुड़ाव रहा है. पारसनाथ जैन समुदाय का महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है. पारसनाथ को अंतरराष्ट्रीय स्तर का पर्यटन स्थल बनाना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में से एक है. पारसनाथ झारखंड का गौरवशाली धरोहर है. पारसनाथ अध्यात्म की भूमि रही है. विश्व के मानचित्र में पारसनाथ एक महत्वपूर्ण जैन समुदाय का तीर्थ स्थल के रूप में विकसित हो यह हम सभी का लक्ष्य होना चाहिए. पारसनाथ के गौरव को बढ़ाने में जैन धर्मावलंबी एवं दीक्षार्थियों की भूमिका महत्वपूर्ण होगी.
मुख्यमंत्री ने कहा कि पारसनाथ के ऋजुवतिका में भव्य मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हुआ है. मंदिर निर्माण कार्य शुरू होने से यहां के स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिल रहा है. इस क्षेत्र में उच्चस्तरीय हॉस्पिटल का भी निर्माण कार्य प्रारंभ हो चुका है. लोगों को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने हेतु राज्य सरकार प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है. आवागमन की सुविधा सुलभ हो इस हेतु कार्य किए जा रहे हैं. वर्ष 2019 में देवघर एयरपोर्ट बनकर तैयार हो जाएगा. देवघर में एयरपोर्ट के निर्माण होने से देश के विभिन्न राज्यों एवं विदेशों से पारसनाथ आने वाले लोगों को सुविधा होगी.
ऋजुवतिका तीर्थ समिति की ओर से परेश सेठ (नंदप्रभा परिवार) जिला गिरिडीह ने मुख्यमंत्री को आमंत्रित करते हुए कहा कि आपके झारखंड राज्य की भूमि ऋजुवतिका नदी जो जैनों के अंतिम तीर्थंकर भगवान महावीर की केवल ज्ञान भूमि है जिन पर करीब 50 एकड़ भूमि के परिसर में वर्धमान (महावीर) स्वामी का भव्य मंदिर का निर्माण हो रहा है. इस पवित्र भूमि की स्पर्शना हेतु 27 जनवरी 2019 को परम पूज्य आचार्य नयवर्धन सुरीश्वर जी महाराजा आदि साधु साध्वीगण एवं उनके सानिध्य में श्रद्धालु का छरी पालित संघ द्वारा पैदल यात्रा करने का आयोजन आहूत की गई है. अवसर पर मुख्यमंत्री की उपस्थिति सभी श्रद्धालुओं को निश्चित रूप से आनंदित करेगी. आप पूरे झारखंड के सभी लोगों के ओर से अवश्य पधारें और आपके शुभेच्छा के वचनों से यात्रा प्रारंभ का धार्मिक झंडा दिखाएं.
इस अवसर पर मुख्यमंत्री रघुवर दास एवं उनकी धर्मपत्नी श्रीमती रुकमणी देवी ने सभी जैन धर्मावलंबी दीक्षार्थियों को नारियल एवं साल देकर सम्मानित किया. साथ ही अपने लक्ष्य की प्राप्ति हेतु शुभकामनाएं देते हुए कहा कि नव राष्ट्र के निर्माण में आप सभी की भूमिका महत्वपूर्ण होगी.
इस अवसर पर एक साथ दीक्षा प्राप्त करने वाले 45 महिला एवं पुरुष जैन धर्मावलंबी सहित अन्य उपस्थित थे.

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *