झारखंड ने रचा इतिहास,1.06 लाख युवाओं को मिला नियुक्ति पत्र


रांची,10जनवरी। युवा दिवस 12 जनवरी से ठीक दो दिन पहले झारखंड के युवाओं को सरकार की ओर से बड़ी सौगात दी गई। रांची के खेल गांव स्थित बिरसा मुंडा एथलेटिक्स स्टेडियम में आयोजित ग्लोबल स्किल सम्मिट के जरिये गुरुवार को झारखंड में एक लाख से अधिक युवाओं को नियुक्ति पत्र सौंपा गया। हुनरमंद युवाओं को नियुक्ति पत्र सौंपने के बाद केंद्रीय कौशल विकास मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि जापान, यूरोप और अमेरिका जैसे देशों में कुशल कारीगरों की बड़ी मांग हैं ऐसे में हमारे युवा दुनिया भर को अपनी दक्षता का लौहा मनवा सकते हैं। इस दौरान उन्होंने कहा कि झारखंड ने कौशल विकास के क्षेत्र में जो रास्ता दिखाया है वह दुनिया को झारखंड की मानव शक्ति की ताकत का भी अहसास कराएगा। प्रधान ने केंद्र की ओर से झारखंड को हर संभब मदद का भरोसा भी दिलाया।धर्मेंद्र प्रधान ने कहा की जापान, यूरोप और अमेरिका जैसे देशों में कुशल कारीगरों की बड़ी आवश्यकता है, झारखंड इस जरूरत को पूरा करने में सफल हो सकता है।
इस दौरान राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू, केंद्रीय कौशल विकास मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास की मौजूदगी में युवाओं को हुनरमंद बनाने के लिए बारह कपंनियों के साथ करार हुआ और चार नए कौशल विकास केंद्र का शिलान्यास भी किया गया। द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि झारखंड के हमारे युवा अत्यंत ही मेधावी है। कौशल विकास पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि यहां के युवा परिश्रमी है और विपरीत हालात में भी अच्छा करने की क्षमता रखते है।
अपने संबोधन में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने युवाओं से कहा कि कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता। संकल्प, ईमानदारी और परिश्रम से हम सिद्धि को प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि युवा शक्ति को लेकर प्रधानमंत्री की सोच को झारखंड हकीकत बनाने में जुटा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के करोड़ों युवाआें की अगर किसी ने चिंता की है, तो वे है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जिन्हों ने पहली बार कौशल विकास विकास मंत्रालय बनाने का काम किया। उन्होंने कहा कि आज नौजवानों को रोजगार मिल रहा है।रघुवर दास ने अपने अनुभव भी इस दौरान साझा किये और कहा कि कौशल नहीं होने के कारण वे टाटा कंपनी में अस्थायी कर्मचारी ही रह गये। उन्होंने कहा कि इससे समझा जा सकता है कि कौशल विकास की कितनी जरूरत है और इसके बिना तरक्की करना मुश्किल है।
नौकरी पाए युवाओं में गजब का जोश और उत्साह देखने को मिला। सम्मिट के दौरान 11 लाख रुपये तक का सालाना पैकेज मिला, जिसकी खुशिया उनके चेहरों पर साफ दिखाई दी।
सम्मिट के दौरान 12 कंपनियों के साथ कौशल विकास को लेकर करार हुआ और युवाओं को हुनरमंद बनाने के लिए 4 नए कौशल विकास केंद्र का शुभारंभ भी हुआ।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *