स्वामी विवेकानंद जयंती पर राज्यभर में कई कार्यक्रम

/विकास भारती बिशुनपुर में स्वामी विवेकानंद को दी गयी श्रद्धांजलि

रांची,12जनवरी। स्वामी विवेकानंद की जयंती आज पूरे देश में राष्ट्रीय एकता दिवस रूप में मनाया जा रहा है। इस सिलसिले में राजधानी में भी कई कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे है। मुख्यमंत्री रघुवर दास आज शाम के चार बजे बड़ा तालाब में विवेकानंद की तैंतीस फीट ऊंची कांस्य प्रतिमा का अनावरण करेंगे। सत्रह करोड़ रूपये की लागत से तैयार यह राज्य की सबसे ऊंची प्रतिमा होगी। प्रतिमा के अनावरण के साथ ही बड़ा तालाब के सौंदर्यीकरण के पहले चरण का काम भी पूरा हो जायेगा। इस अवसर पर आज कई विश्वविद्यालयों, कॉलेजों में संगोष्ठी और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। रांची के मोरहाबादी स्थित रामकृष्ण मिशन आश्रम में भी विशेष कार्यक्रम आयोजित हो रहा है।इधर,स्वामी विवेकानंद  की जयंती की 156वीं वर्षगांठ एवं राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर विकास भारती बिशुनपुर के रांची कार्यालय परिसर, आरोग्य भवन-1, बारियातु रोड, रांची में माल्यार्पण-सह-पुष्पांजलि कार्यक्रम संपन्न हुआ। इस अवसर पर विकास भारती बिशुनपुर के सचिव पद्मश्री अशोक भगत एवं रामकृष्ण मिशन रांची के सचिव स्वामी भवेशानंद  महाराज के द्वारा पुष्पांजलि एवं माल्यार्पण किया गया। इस अवसर पर उपस्थित विकास भारती के कार्यकर्ताओं एवं कौशल विकास के प्रशिक्षणार्थियों को संबोधित करते हुए श्री भवेशानंद महाराज जी ने कहा कि स्वामी विवेकानंद जी ने नर सेवा से नारायण सेवा की बात कही थी। इससे सभी युवाओं को प्रेरणा मिलती रहेगी साथ ही उन्होंने युवाओं से आह्वान किया कि वे अच्छे बनें और दूसरों को भी अच्छा बनाएं , अपने आस पड़ोस के अशिक्षित, दरिद्र, रोगी एवं भूखे की सेवा करके ही आत्मिक सुख एवं आध्यात्मिक सुख पाया जा सकता है। युवाओं को स्वामी विवेकानंद जी के सपनों के अनुरूप अपने राष्ट्र का निर्माण करना है। इसके लिए युवाओं का मानसिक, शारीरिक एवं बौद्धिक रूप से स्वस्थ होना, अच्छे विचार रखना, विवेकशील होना अति आवश्यक है। ईश्वर को स्मरण करते हुए आपका जो भी दायित्व है उसे मन से करें और अपने आस-पास के लोगों को भी अपने कार्यों को करने हेतु प्रेरित करें। यही स्वामी जी के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।इस अवसर पर विकास भारती के सचिव पद्मश्री अशोक भगत ने कहा कि स्वामी विवेकानंद के आदर्शों से प्रभावित होकर ही विकास भारती 1983 से जनजातीय बहुल एवं पीड़ित मानवता की सेवा का कार्य कर रही है। स्वामी विवेकानंद गैर सरकारी संगठनों के लिए आदर्श हैं। 

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *