सांसद निशिकांत दूबे ने मकर संक्रांति महोत्सव का किया शुभारंभ


देवघर,14जनवरी। मकर संक्रान्ति के शुभ अवसर पर आज सांसद निश्शिकांत दूबे, स्थानीय विधायक नारायण दास एवं उपविकास आयुक्त सुशांत गौरव के द्वारा संयुक्त रूप से नन्दन पहाड़ पर मकर संक्रान्ति महोत्सव का शुभारम्भ किया गया। इस मौके पर वहाँ उपस्थित लोगों को शुभकामना देते हुए सांसद निश्शिकांत दूबे ने कहा कि यह एक ऐसा पर्व है जो पूरे देश में कई रूपों में मनाया जाता है। झारखण्ड की सांस्.तिक राजधानी देवघर में मकर संक्रान्ति के अवसर पर इस प्रकार के पतंगबाजी प्रतियोगिता का आयोजन किया जाना अपने आप में खास है। कई वर्षों से जिला प्रशासन द्वारा लोगों का मनोरंजन करने एवं पतंगबाजी में भाग लेने वाले प्रतिभागियों के उत्साहवर्द्धन हेतु लगातार इसका आयोजन नन्दन पहाड़ पर किया जा रहा है, जो कि धीरे-धीरे एक विशाल रूप धारण कर चुका है एवं हम सभी यह आशा करते हैं कि आगे आने वाले दिनों में यह प्रतियोगिता राज्य स्तर पर ख्याति प्राप्त कर लेगी। इस महोत्सव के आयोजन से एकता के साथ-साथ खेल भावना को भी बढ़ावा मिलेगा। साल का यह पहला पर्व सूर्य के दक्षिणायन से उत्तरायण की ओर बढ़ने के साथ ऋतु परिवर्तन का संदेश लेकर आता है।
इस दौरान स्थानीय विधायक नारायण दास ने सर्वप्रथम सभी को मकर संक्रान्ति की शुभकामना दी। सभी को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मकर संक्रान्ति साल का पहल पर्व है जो कि भिन्न-भिन्न राज्यों में अलग-अलग तरीके से मनाया जाता है। मकर संक्रान्ति के साथ इस साल त्यौहारों का सिलसिला शुरू हो जाता है। देश में मनाये जाने वाले विविध पर्व हमारे देश की समृद्ध विरासत एवं सांस्.तिक एकता के प्रतीक हैं। मकर संक्रान्ति पर्व पर ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन कर लोगों को अपनी संस्कृति से जोड़ने का एक सफलतम तरीका है। खुश्शी और उल्लास से साल के पहले पर्व की शुरूआत की जाती है। आईये हम सब मिलकर इस पर्व को पूरे हर्षाल्लास के साथ मनायें।
उपविकास आयुक्त सुश्शांत गौरव ने अपने संबोधन में सभी देवघरवासियों को मकर संक्रान्ति की शुभकामना देते हुए कहा कि नव वर्ष के प्रथम पर्व अर्थात मकर संक्रान्ति पर्व को हमें खुश्शी और पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाना चाहिये। मौसम आज से दूसरी करवट लेता है और धीरे-धीरे ठंड कम होते चली जाती है। खिचड़ी और तील आज के दिन खाना शुभ माना जाता है। यह एक ऐसा पर्व है जो सांस्कृतिक एवं प्रादेशिक भिन्नताओं से परे भिन्न-भिन्न नामों से पूरे राष्ट्र में एक साथ मनाया जाता है। उपविकास आयुक्त ने वहाँ मौजूद बच्चों को भी मकर संक्रान्ति की शुभकामना देते हुए कहा कि आज के दिन पतंग उड़ाने की परम्परा बहुत पुरानी रही है। समय के साथ पतंग उड़ाने तरीका थोड़ा बदल गया है। इसके अलावे उन्होंने कहा कि वास्तव में जिला प्रशासन द्वारा इस प्रकार के महोत्सव का आयोजन किये जाने का मुख्य उद्देश्य लोगों का मनोरंजन करने के साथ-साथ खेल भावना को बढ़ावा देना है। उन्होंने महोत्सव में भाग लेने वाले सभी प्रतिभागियों को बधाई देते हुए कहा कि सभी प्रतिभागियों को बधाई व जीतने वाले को ढेर सारी शुभकामनाएँ। साथ हीं उन्होंने कहा कि आप सभी की कला और सहयोग वाकई काबिले तारीफ है और आगे भी इसी प्रकार आपलोग आसमान में उड़ने वाली पतंग की तरह अपने कार्यक्षेत्र में ऊँचाईयों को छुएँ और दिन-प्रतिदिन नयी-नयी उपलब्धियाँ हासिल करें।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *