साजिश के तहत फंसाया गया, पूरे परिवार ने कांग्रेस पार्टी के लिए बलिदान दिया-योगेंद्र साव


रांची,15अप्रैल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्य के पूर्व कृषि मंत्री योगेंद्र साव ने आज रांची स्थित व्यवहार न्यायालय में आत्मसमर्पण करने के पहले पत्रकारों से बातचीत में आरोप लगाया कि उन्हें एक साजिश के तहत फंसाया गया है। उन्होंने राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कोर्ट को गुमराह कर उनकी जमानत को रद्द कराया गया।
योगेंद्र साव ने कहा कि उच्चतम न्यायालय के आदेश का पालन करने के लिए वे यहां पहुंचे है, अदालत पर उन्हें पूरा भरोसा है और जल्द ही न्याय की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार यह नहीं चाहती है कि लोकसभा चुनाव में वे क्षेत्र में रहे,क्योंकि उन्होंने राज्य सरकार के जो आंदोलन छेड़ा है, वह जल, जंगल और जमीन से जुड़ा हुआ है। उनकी लड़ाई हमेशा से ही राज्य सरकार से रही है। उन्होंने कहा कि तानाशाह सरकार ने उनके खिलाफ फर्जी मुकदमे दर्ज कराये, साजिश कर जमानत भी रद्द करा दी। उन्होंने मुख्यमंत्री रघुवर दास भी कटाक्ष करते हुए कहा कि ऐसी तानाशाह सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए सभी एकजुट हो जाए, रघुवर दास वैश्य और साहू समाज को अपना वोट बैंक समझते है, समय आ गया है, समाज के लोग पूरे राज्य में ऐसी सरकार के खिलाफ वोट करें।
कांग्रेस नेता योगेंद्र साव ने कहा कि वे हजारीबाग लोकसभा सीट से चुनाव लड़ना चाहते थे, इस कारण अब तक पार्टी हाईकमान ने इस सीट के लिए उम्मीदवारी के नाम की घोषणा अब तक नहीं की। लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उनकी बेटी को प्रोजेक्ट करना चाहते थे। योगेंद्र साव ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के लिए उनके पूरे परिवार ने बलिदान दिया है, उनकी पत्नी निर्मला देवी विधायक होने के बावजूद क्षेत्र से बाहर है, उन्हें राज्य बदर किया गया है। उन्होंने राज्य सरकार के साथ ही हजारीबाग जिले के कई पुलिस-प्रशासनिक अधिकारियों पर भी सरकार से मिलीभगत का आरोप लगाया गया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार और अधिकारियों की मिलीभगत के कारण ही हजारीबाग में जितनी भी घटना हुई है।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *