कांग्रेस नेता नीरज सिंह की गोली मारकर हत्या

धनबाद के स्टील गेट के समीप सरेशाम गोलियों से भूना, नीरज सिंह की फॉर्च्यूनर को घेर किया हमला’
रांची,21मार्च। धनबाद नगर-निगम के पूर्व डिप्टी मेयर नीरज सिंह के वाहन पर मंगलवार रात करीब साढ़े सात बजे के करीब अपराधियों ने अंधाधुंध फायरिंग की। अपराधियों द्वारा नीरज सिंह के वाहन पर 18 गोलियां बरसायी गयी, इस घटना में नीरज सिंह समेत चार लोगों की मौत की खबर है। हालांकि पुलिस अभी नीरज सिंह के वाहन के चालक व उनके दो सहयोगियों की मौत की पुष्टि कर रही है, जबकि नीरज सिंह की मौत की पुष्टि अभी नहीं हो पायी है।
धनबाद जिले के सरायढेला थाना क्षेत्र के के भीड़ वाले इलाके स्टील गेट के सामने अपराधियों ने नीरज सिंह के वाहन को अपना निशान बनाया। बताया गया है कि यह इलाका सिंह मेंशन का दबदबा वाला माना जाता है। नीरज सिंह की मौत को लेकर पारिवारिक विद्वेष या कोयला कारोबार में आपसी प्रतिद्वंदिता की आशंका जतायी जा रही है। इस घटना में नीरज सिंह का वाहन चालक, एक अंगरक्षक व साथी अशोक यादव की मौत की बात कही जा रही है। जिस तरह से वाहन पर अंधाधुंध 18 गोलियां बरसायी गयी,उससे अपराधियों की साफ मंशा थी कि शूटरों ने नीरज सिंह को जान से मारने का मंसूबा बना कर ही आये थे। हमले में वाहन के शीशे में कई गोलियां आर-पार हो गयी और इन्हीं गोलियों में कुछ गोलियां नीरज सिंह व उनके सहयोगियों को लगी।
गोली लगने के बाद नीरज सिंह और उनके सहयोगियों को स्थानीय अस्पताल में भर्त्ती कराया गया,जहां उनके समर्थकों में काफी आक्रोश देखा जा रहा है, जिसके कारण पूरे अस्पताल की सुरक्षा सीआईएसएफ के हवाले कर दी गयी है। जबकि नीरज सिंह के परिवार के ही प्रतिद्वंदी माने जाने वाले विधायक संजीव सिंह के घर की भी सुरक्षा बढ़ा दी गयी है।
घटना के संबंध में प्राप्त जानकारी के अनुसार धनबाद के सबसे व्यस्तम क्षेत्र सरायढेला थाना क्षेत्र के स्टील गेट के समीप घटी। बताया गया है कि पूर्व डिप्टी मेयर और कांग्रेस नेता नीरज सिंह (32वर्ष) अपनी फॉर्च्यूनर (जेएच10एआर4500) से सरायढेला स्थित अपने आवास रामाश्रय (आवास) लौट रहे थे। वे ड्राइवर के साथ बगल में अगली सीट पर बैठे थे। पीछे की सीट पर उनका समर्थक अशोक यादव और एक निजी अंगरक्षक था। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि हत्यारे मोटरसाईकिल पर सवार थे और घटना को अंजाम देने के बाद वे भागने में सफल रहे। घटनास्थल के पास से ही नीरज के चचेरे भाई झरिया के विधायक संजीव सिंह का आवास है। हत्यारों ने घटना को अंजाम देने के पूर्व काफी रेकी भी की थी, क्योंकि जिस स्थाल पर घटना को अंजाम दिया गया, वहां दो दिन नहले बने स्पीड ब्रेकर पर नीरज सिंह की गाड़ी की रफ्तार कम होते ही, दो मोटरसाईकिल पर सवार हमलावारों ने फॉर्च्यूनर को घेर लिया और गोलियों की बरसात कर दी। चारों तरफ शीशे पर गोलियां बरसात की गयी,जिसमें डेढ़ दर्जन से अधिक सुराख बन गये और मौके से 50 से अधिक खोखे बरामद किये गये है। घटना के बाद इलाके में भगदड़ मच गयी। पुलिस की मदद से अगली सीट पर लुढ़के नीरज सिंह को को दो किमी दूर केंद्रीय हॉस्पिटल ले जाया गया। नीरज सिंह कोयलांचल के बेताज बादशाह स्व. सूर्य देव सिंह के भतीजे थे। उनके पिता राजनारायण सिंह का कुछ साल पहले ही निधन हो गया था। हालांकि सूर्यदेव सिंह के परिवार से उनकी नहीं पट रही थी। सूर्यदेव सिंह के पुत्र संजीव सिंह झरिया से विधायक हैं और गत 29 जनवरी की शाम संजीव सिंह के खासमखास रंजय सिंह की सरेशाम गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। उस घटना के बाद नीरज सिंह ने कहा था कि वह हत्या की राजनीति में विश्वास नहीं करते है।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *