August 12, 2022

view point Jharkhand

View Point Jharkhand

बीजेपी की महिला विधायक माथे पर टोकरी और पीठ पर डॉल बेबी लेकर पहुंची विधानसभा

Spread the love

 

अकाल क्षेत्र घोषित करने की मांग को लेकर बीजेपी के सभी किसान का लिबास पहन कर पहुंचे
रांची। झारखंड विधानसभा के मॉनसून सत्र के दौरान मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी के विधायकों ने अनोखे अंदाज में प्रदर्शन किया। बीजेपी के सभी विधायक किसान का लिबास पहन कर पहुंचे थे। सभी ने धोती और गंजी पहन रखी थी और कंधे पर एक गमछा रखा, जबकि एक बीजेपी विधायक को साथ में कुदाल लेकर भी पहुंचे थे। वहीं बीजेपी की महिला विधायक डॉ. नीरा यादव तो अनोखे अंदाज में विरोध प्रदर्शन में भाग लिया। उनके सिर पर टोकरी था और पीठ पर आदिवासी एवं ग्रामीण महिलाओं की तरह वह बेबी डॉल को बांध कर सदन में पहुंची थी।
बीजेपी विधायक नीरा यादव माथे पर टोकरी में पत्ता से बने डोना (प्लेट) को लेकर पहुंची थी, इस प्लेट का उपयोग राज्य के विभिन्न होटलों और ठेले मंे समोसा-पौकड़े, चार्ट व अन्य सामान देने में होता है, जबकि शादी-विवाह और अन्य समारोह में भी इसका उपयोग होता है। वहीं ग्रामीण महिलाओं की तरह सांकेतिक विरोध प्रदर्शन के लिए बेबी डॉल को लेकर पहुंची नीरा यादव ने बताया कि आज किसान और गरीब परिवार की महिलाएं इसी तरह से परेशान है, पीठ पर लदे बच्चे भूख से रो रहे है, लेकिन किसान उनकी आवाज को अनसुनी कर रही है। इसलिए विवश होकर सरकार का ध्यान आकृष्ट कराने के लिए यह कदम उठाना पड़ा। डॉ. नीरा यादव ने इस मौके पर पत्रकारों से बातचीत में कहा कि पूरा झारखंड अल्पवृष्टि के कारण अकाल की चपेट में है, लेकिन राज्य सरकार की ओर से अब तक राहत कार्य नहीं शुरू किया गया है, पर्याप्त बारिश नहीं होने के कारण किसानों के बिचड़े खेत में सूख रहे है, अब तक धान रोपनी का काम भी शुरू नहीं हो सका है,ऐसे में यदि तत्काल किसानों को मदद नहीं पहुंचायी जाए, तो किसान आत्महत्या करने को मजबूर होंगे, पर्याप्त चारा नहीं मिलने के कारण पशुओं के समक्ष भी संकट की स्थिति उत्पन्न हो जाएगी, जबकि आने वाले समय में यदि बारिश नहीं होती है, तो राज्य में पेयजल संकट की भी स्थिति गंभीर हो जाएगी।
वहीं भाजपा के शशिभूषण मेहता किसाल का लिबास पहन कर कुदाल साथ लेकर विधानसभा परिसर पहुंचे थे और उन्होंने कुदाल के साथ प्रदर्शन किया। बीजेपी की महिला विधायक अपर्णासेन गुप्ता भी महिला किसान की वेश में विधानसभा पहुंची। बाद में सदन के अंदर भी बीजेपी विधायकों ने इस मसले पर जोरदार प्रदर्शन किया।  
किसान लिबास पहनने वाले भाजपा नेता ओरिजिनल किसान नहीं, हंगामा कर सदन को कर रहे पैरालाइज-हेमंत सोरेन
इधर, सदन में सुखाड़ के मुद्दे पर विशेष वाद-विवाद के पहले भी बीजेपी सदस्यों का हंगामा जारी रहा। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भाजपा सदस्यों के इस रवैये पर नाराजगी जताते हुए कहा कि केवल किसान का लिबास पहनकर सदन वाले भाजपा सदस्य ओरिजिनल किसान नहीं हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा सदस्य विरोध प्रदर्शन कर पूरे हाउस को पैरालाइज करने का षड़यंत्र रच रहे है। उन्होंने कहा कि आज सरकार वर्तमान अल्पवर्षा की स्थिति से उत्पन्न सुखाड़ की स्थिति पर चर्चा करना चाहती है, परंतु भाजपा सदस्य इसमें बाधा उत्पन्न कर रहे है। सरकार सुखाड़ को लेकर चर्चा करने को तैयार है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने पहले भी विभिन्न मंचों से यह कहने का काम किया है, राज्य में अल्पवृष्टि से स्थिति खराब हो रही है, अभी एक महामारी से झारखंड उबरा भी नहीं था, तभी प्राकृतिक आपदा से मुश्किलें बढ़ाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सभी लोगों, विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों के प्रति पूरी तरह से संवेदनशील और गंभीर है। किसानों के हित में सरकार सही फैसला लेगी।

 

About Post Author