January 18, 2022

view point Jharkhand

View Point Jharkhand

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को लेकर सीएम की अध्यक्षता में हुई समीक्षा बैठक

Spread the love


नये साल की पाबंदी पर नहीं लगेगी कोई पाबंदी, प्रति दिन एक लाख से अधिक टेस्ट की बनी रणनीति
रांची। झारखंड में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को लेकर शुक्रवार शाम को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में एक उच्चस्तरीय बैठक हुई। फिलहाल राज्य सरकार ने 31 दिसंबर की रात और 1 जनवरी के जश्न पर कोई पाबंदी नहीं लगाने का निर्णय लिया है, लेकिन संक्रमण पर अंकुश को लेकर प्रति दिन एक लाख से अधिक कोरोना जांच की रणनीति बनी है।
बैठक समाप्त होने के बाद स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई बैठक में कोरोना संक्रमण की तेजी से बढ़ रही संख्या से उत्पन्न स्थिति पर गहन विचार-विमर्श किया गया है। उन्होंने कहा कि मौजूदा हालात में यह कोशिश होगी कि प्रतिदिन एक लाख कोविड-19 टेस्ट हो, फिलहाल राज्य सरकार ने नववर्ष के सेलिब्रेशन पर किसी तरह से रोक नहीं लगाने का निर्णय लिया गया है, लेकिन पिकनिक स्पॉट पर सख्ती बढ़ायी जाएगी, लोगों से मास्क पहनने और सोशल डिस्टेस्टिंग बनाये रखने की अपील की जाएगी। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि जिस तेजी से कोरोना संक्रमण के मामलों में बढ़ोत्तरी हो रही है, उसे देखते हुए राज्य सरकार यह अपील करती है कि लोग कम से कम पिकनिक स्पॉट पर जाए, तो यह उनके लिए ही अच्छा रहेगा।
स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि अगले सप्ताह झारखंड राज्य प्रबंधन प्राधिकार की बैठक होगी, जिसमें आगे की स्थिति को देखते हुए सरकार आवश्यक फैसला लेगी। उन्होंने कहा कि सभी जिलों के उपायुक्तों को यह निर्देश दिया गया है और सरकार की कोशिश होगी कि आगामी 15 जनवरी तक राज्य के सभी लोगों को कोविड रोधी पहला डोज और दूसरा डोज लग जाए। इसके अलावा 3 जनवरी से 15 से 18वर्ष तक के लिए वैक्सीनेशन का काम भी शुरू होगा। इसे लेकर भी आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली गयी है। जबकि 10 जनवरी से 60वर्ष से अधिक उम्र और कोरोना योद्धाओं को बूस्टर डोज देने का काम भी शुरू होगा।
बन्ना गुप्ता ने कहा कि बैठक में इस बात पर भी चर्चा हुई कि राज्य के अस्पतालों को कैसे अधिक से अधिक सुदृढ़ किया जाए और ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने में आ रही बाधाओं को दूर करने पर चर्चा हुई। इसके अलावा रांची में जल्द ही जीनोम सीक्वेसिंग मशीन भी स्थापित कर दी जाएगी। वहीं सभी जिलों के उपायुक्तों को यह भी निर्देश दिया गया है कि भीड़ वाले क्षेत्रों पर सख्त नजर रखी जाए और लोगों से मास्क पहनने तथा सोशल डिस्टेटिंग का पालन सुनिश्चित कराने के लिए आवश्यक कदम उठाये जाएं।