December 4, 2021

view point Jharkhand

View Point Jharkhand

बकोरिया मुठभेड़ कांडः तीसरी बार जांच के लिए पहुंची सीबीआई

Spread the love

टनास्थल का किया निरीक्षण
मेदिनीनगर। छह पुराने बकोरिया मुठभेड़ कांड (Bakoria encounter case) की जांच के लिए एक बार फिर CBI की टीम पलामू पहुंची है। गुरुवार को सीबीआई की टीम ने तीसरी बार घटनास्थल का निरीक्षण किया है। इसमें सीबीआई के बड़े अधिकारी शामिल हैं।
बतातें चलें कि 8 जून 2015 को सतबरवा थाना क्षेत्र के बकोरिया के भलवही घाटी में पुलिस-नक्सलियों में कथित मुठभेड़ हुई थी, जिसमें माओवादियों का टॉप कमांडर आरके यादव उर्फ डॉक्टर समेत 12 लोगों की मौत हो गई थी। मारे गए लोगों में 4 बच्चे भी शामिल थे। इस घटना में आरके का बेटा और भतीजा भी मारा गया था।
सीबीआई टीम ने सतबरवा थाना क्षेत्र के बकोरिया के भलवही घाटी का दौरा किया। बकोरिया स्थित घटनास्थल पर सीबीआई की टीम अपराहन 2 बजे के करीब पहुंची और घटनास्थल पर गई, जहां पर मुठभेड़ के बाद मारे गए लोगों को एक कतार में लेटाकर शव को रखा गया था। वही इसके बाद घटनास्थल पर मौजूद असलहा, वर्दी तथा अन्य सामान जहां पर रखे गए थे उक्त स्थल को सीबीआई की टीम ने देखी। ज्वाइंट डायरेक्टर, डीजी और एसपी के नेतृत्व में शामिल सीबीआई की टीम घटनास्थल पर करीब 10 मिनट तक रुकी। सीबीआई टीम में शामिल अधिकारी वाहनों से इसके बाद रांची की ओर रवाना हो गए।
गौरतलब है कि मुठभेड़ में मारे गए पारा शिक्षक के पिता जवाहर यादव मामले को लेकर हाईकोर्ट गए थे। 2018 में हाईकोर्ट ने सीबीआई को जांच का आदेश दिया था। इससे पूर्व भी सीबीआई की टीम सतबरवा थाना की पुलिस के साथ घटनास्थल पर पहुंची थी। सीबीआई के सहयोग के लिए तत्कालीन सतबरवा के थाना प्रभारी मोहम्मद रुस्तम के अलावे कई लोग मौजूद थे।
सीबीआई तीन बार कर चुकी है घटनास्थल का दौरा
सीबीआई के विशेष टीम ने सतबरवा के बकोरिया स्थित भलवही घाटी में कथित मुठभेड़ स्थल का दौरा तीन बार कर चुकी है। इस दौरान सीबीआई की टीम मुठभेड़ स्थल पर क्राइम रीक्रिएशन ऑफ क्राइम सीन तथा एसएसएल जांच पहले कर चुकी है। सूत्रों के अनुसार सीबीआई टीम को अगले माह के पहले सप्ताह में हाईकोर्ट को स्टेटस रिपोर्ट सौंपना है।
कथित मुठभेड़ में जेजेएमपी उग्रवादियों के द्वारा घटना को अंजाम देने में नाम आ चुका है। हालांकि पुलिस के द्वारा मुठभेड़ में आरके यादव समेत अन्य उग्रवादियों को मार गिराने का दावा किया गया है। मालूम हो कि 2 साल से कोविड-19 के चलते सीबीआई टीम की जांच रिपोर्ट की प्रगति धीमी हो गई थी। चर्चा है कि अब इस मामले के तह तक सीबीआई पहुंच चुकी है।