May 24, 2022

view point Jharkhand

View Point Jharkhand

गैर भाजपा नेतृत्व वाली सरकार को अस्थिर करने की देश में नयी राजनीति की शुरुआत हुई-अविनाश पांडेय

Spread the love

झारखंड में बीजेपी का यह मुहिम सफल नहीं होगा, हेमंत सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी।
रांची। अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के महासचिव और झारखण्ड कांग्रेस प्रभारी अविनाश पाण्डेय ने कहा है कि गैर भाजपा नेतृत्व वाली सरकार को अस्थिर करने की देश में आज एक नयी राजनीति की शुरुआत हुई हैं, लेकिन यह झारखंड में सफल नहीं होगा। संगठन सशक्तीकरण अभियान की समीक्षा के लिए बुधवार को रांची पहुंचे प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडेय के साथ पार्टी के प्रदेश चुनाव पदाधिकारी , पीआरओ प्रकाश जोशी भी साथ आये हैं।
रांची एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बातचीत में प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अविनाश पाण्डेय ने कहा कि देश में जहां- जहां गैर भाजपा सरकारें हैं, उसे अस्थिर करने के लिए भाजपा की ओर से पिछले दिनों से मुहिम चलाकर रखा गया है। उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जाती है। लेकिन उन्हें पूरा विश्वास है कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के मामले में कानून अपना काम करेगा और देश में आज जो कानून है,उसी आधार पर निर्णय लिये जाएंगे। इसलिए झारखंड सरकार को फिलहाल कोई खतरा नहीं है और राज्य सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी। उन्होंने कहा कि भाजपा देश में बढ़ती गरीबी, महंगाई और बेरोजगारी तथा जहां-जहां भाजपा नेतृत्व वाली सरकार है, वहां की विफलताओं को छिपाने के लिए समय-समय पर इस तरह का भ्रामक प्रचार करती है।
झारखंड के संदर्भ में प्रदेश कांग्रेस प्रभारी ने कहा कि राज्य में कांग्रेस-झारखंड मुक्ति मोर्चा और राष्ट्रीय जनता दल गठबंधन एकजुट है। पूरी पार्टी और गठबंधन मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के साथ खड़ी है। उन्होंने कहा कि पार्टी को संवैधानिक संस्थाओं पर पूरा विश्वास है।
संगठन सशक्तीकरण अभियान के तहत 2 दिन के दौरे के संदर्भ में अविनाश पांडेय ने कहा कि पार्टी की ओर से 25 सांगठनिक जिलों में संगठन को मजबूती प्रदान करने के लिए जो कार्यक्रम चलाये गये,उसकी समीक्षा के लिए वे रांची आये है और समीक्षा के क्रम में संगठन की मजबूती के लिए वे आवश्यक कदम उठाएंगे।
इससे पहले प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे के रांची आगमन पर पार्टी नेताओं-कार्यकर्त्ताओं ने एयरपोर्ट पर उनका स्वागत किया। स्वागत करने वालों में मंत्री बन्ना गुप्ता, बादल पत्रलेख, पूर्व विधायक बंधु तिर्की और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आलोक कुमार दूबे शामिल थे।