April 24, 2024

view point Jharkhand

View Point Jharkhand

आरकेटीसी कंपनी का काला खेल जारी, अब ओवरलोडिंग के साथ प्रदूषण मानकों का भी हो रहा है उल्लंघन

Spread the love



पहले भी जंगलों की अवैध कटाई और बिना अनुमति वन भूमि पर सड़क बनाकर कोयला ढुलाई का लग चुका है आरोप
रांची। झारखंड में चतरा जिले के टंडवा स्थित आम्रपाली परियोजना में आरकेटीसी कंपनी का काला खेल जारी है। अब कंपनी पर ओवरलोडिंग के साथ ही प्रदूषण मानकों के भी उल्लंघन का आरोप लगा है। इससे पहले भी इस कंपनी जंगलों की अवैध कटाई और बिना अनुमति वन भूमि पर सड़क बनाकर कोयला ढुलाई का आरोप लग चुका है।
स्थानीय लोगों का कहना है कि इलाके में कोयला ढुलाई का काला खेल एक बार फिर चालू हो गया है। आम्रपाली परियोजना से शिवपुर रेलवे साइडिंग तक कोयला ढुलाई  का कार्य करने वाली आरकेटीसी कोयला परिवहन कंपनी यह कार्य सीसीएल के अधिकारियों के सहयोग ,सांठगांठ और मिलीभगत से कर रही है। स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि आम्रपाली परियोजना के कांटा घर संख्या 7, 12 ,17 ,19 और 21 से खुलेआम सरकारी नियमों प्रावधानों को ताक पर रखकर हाईवा और 18 चक्का वाहनों से ओवरलोड कोयला की ढुलाई की जा रही है। कोयला के इस काले खेल में सीसीएल कर्मी और वन विभाग के पदाधिकारियों की भी मिलीभगत की बात सामने आ रही हैं।
स्थानीय पत्रकारों ने जब इस संबंध में कांटा घरों में कार्यरत कर्मियों से जानकारी मांगी, तो उन कर्मियों ने बताया कि आम्रपाली परियोजना के डिस्पैच पदाधिकारी और परियोजना पदाधिकारी का मौखिक आदेश इस ओवरलोड कार्य करने के लिए मिला हुआ है। इसलिए वे लोग आदेश का पालन करने के लिए बाध्य हैं।   जानकार बताते हैं कि शिवपुर साइडिंग कोयला ढुलाई  डिस्पैच की मात्रा बढ़ाने को लेकर ओवरलोड का काला खेल सीसीएल प्रबंधन से आरकेटीसी कंपनी के मिलीभगत से प्रारंभ किया गया है।
जबकि नियम की बात करें तो भारत सरकार के उपक्रम परिवहन मंत्रालय ने माल वाहक गाड़ियों के लिए प्रावधान के हिसाब से माल ढोने का वजन निर्धारित किया है। लेकिन  उन सभी नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए आम्रपाली परियोजना में शिवपुर साइडिंग कोल डिस्पैच  परिवहन कार्य में आरकेटीसी कंपनी तथा सीसीएल प्रबंधन के द्वारा ओवरलोड कोयला का ढुलाई धड़ल्ले से किया जा रहा है।

About Post Author