May 24, 2022

view point Jharkhand

View Point Jharkhand

संक्रमणकाल में वैज्ञानिक आधार पर स्कूलों को खोलने पर निर्णय हो-रामेश्वर उरांव

Spread the love


एचएम पब्लिक स्कूल में मेगा रक्तदान सह निःशुल्क नेत्र जांच शिविर का आयोजन
रांची।झारखंड के वित्त तथा खाद्य आपूर्ति मंत्री डॉ0 रामेश्वर उरांव ने कहा कि कोरोना संक्रमणकाल में वैज्ञानिक आधार पर स्कूलों को खोलने पर निर्णय हो चाहिए और इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिए कि बच्चों की पढ़ाई बर्बाद ना हो। उन्होंने कहा कि विकास की पहली सीढ़ी शिक्षा ही होती है और वे इस बात के पक्षधर है कि उचित समय देखकर स्कूलों को खोलने पर निर्णय लिया जाए। डॉ0 उरांव मुख्य अतिथि के रूप में आज रांची के लोअर चुटिया स्थित एचएम पब्लिक स्कूल में मेगा रक्तदान सह निःशुल्क नेत्र जांच शिविर का उदघाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर पासवा के प्रदेश अध्यक्ष आलोक कुमार दूबे, उपाध्यक्ष लाल किशोरनाथ शाहदेव, महासचिव राजेश गुप्ता छोटू और स्कूल के संचालक अरविंद कुमार उपस्थित थे। मेगा रक्तदान सह निःशुल्क नेत्र जांच शिविर का आयोजन एचएम पब्लिब स्कूल के संस्थापक रहे आनंद कुमार के 50वें जन्मोत्सव के मौके पर आयोजित किया गया।
डॉ0 रामेश्वर उरांव ने कहा कि मनुष्य चले जाने के बावजूद उनके विचार और कृत्य जीवित रहते है। आज बहुत दिन पर स्कूल में ऐसे गीत सुनने को मिले, झारखंड का जनजातीय समाज प्रकृति पूजक है और प्रकृति के साथ ही भगवान की भी पूजा की जाती है। उन्होंने कहा कि रक्तदान महादान होता है, रक्तदान करने वाले को पता नहीं होता है,यह रक्त किसके काम आएगा, एक बार उन्हें भी सर गंगाराम अस्पताल में रक्त की जरुरत पड़ी थी, उन्हें भी यह पता नहीं कि किसके द्वारा किया गया रक्तदान उन्हें प्राप्त हुआ है।
वित्तमंत्री ने कहा कि निजी स्कूलों की आलोचना किया जाना ठीक नहीं है, आज देशभर के निजी स्कूलों में लाखों-करोड़ों बच्चों को शिक्षा मिल रही है, लाखों लोगों को रोजगार भी मिला है। लोग अपने बच्चे को सरकारी स्कूलों में पढ़ाना चाहते है, सरकारी स्कूलों में क्या कमियां है, इस पर ध्यान देने की जरूरत है, ताकि लोग खुद ही सरकारी स्कूलों में ही अपने बच्चों को पढ़ाना चाहे।
इस मौके पर एक प्रश्न के उत्तर में डॉ0 रामेश्वर उरांव ने कहा कि गरीबों और मध्यमवर्गीय परिवार को 26 जनवरी से पेट्रोल पर प्रति लीटर 25 रुपये की छूट देने की योजना पर तेजी से काम कर रहा है, एप्प बनाया जा रहा है और समय रहते सभी प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। एक अन्य प्रश्न के उत्तर में डॉ0 रामेश्वर उरांव ने कहा कि सरकार राजस्व के संसाधान में बढ़ोत्तरी पर ध्यान दे रही है। कानून व्यवस्था को लेकर पूछे गये एक प्रश्न के उत्तर में डॉ0 उरांव ने कहा कि कहीं कोई बड़ी घटना होती है,तो सवाल उठते है, पुलिस-प्रशासन विधि व्यवस्था को बनाये रखने और यदि कोई घटना हो जाती है,तो आरोपियों को तुरंत पकड़ कर अदालत के माध्यम से पीड़ित पक्ष को न्याय दिलाने का काम किया जाना चाहिए।  
इस मौके पर पासवा के प्रदेश अध्यक्ष आलोक कुमार दूबे ने कहा कि वित्तमंत्री रामेश्वर उरांव निजी स्कूलों के संचालकों की परेशानियों को अच्छी तरह से समझते है और एक मददगार के रूप में उनसे जो भी संभव बन पा रहा है, इस दिशा में वे लगातार काम कर रहे है। उन्होंने कहा कि पासवा सरकार से यह मांग करती है कि कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए बच्चों के भविष्य को देखते हुए स्कूल के संचालन की अनुमति दी जाए।
लाल किशोर नाथ शाहदेव ने कहा पासवा की ओर से नेत्रजांच के दौरान मोतियाबिंद पाये जाने वाले मरीजों का निशुल्क ऑपरेशन भी कराया जाएगा।
  डा.राजेश गुप्ता ने कहा वर्ल्ड बैंक के वैज्ञानिक द्वारा स्कूल खोलने पर सहमति  दिये जाने के आधार पर कल दिनांक 19 जनवरी को देशभर में पासवा द्वारा मुख्यमंत्रियों को ज्ञापन भेजा जाएगा।
इस मौके पर स्कूल के संचालक अरविंद कुमार ने मंत्री रामेश्वर उरांव को फूलों का गुलदस्ता देकर स्वागत किया।इस मौके पर पासवा के डा.सुषमा केरकेट्टा,आलोक बिपिन टोप्पो, मुजाहिद इस्लाम, मजीद अंसारी, कैलाश कुमार,राशीद अंसारी,अमीन अंसारी, मो.अलताफ,मोहन प्रकाश मुख्य रुप से उपस्थित थे।